Home » इंडिया » asaram rape case: these IPC sections lead asaram to remin in jail Ram Jethmalani, Subramanian Swamy, Salman Khurshid could not get him bail
 

POCSO एक्ट की वजह से आसाराम को ये बड़े वकील भी सलाखों से नहीं निकाल पाए बाहर!

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 April 2018, 8:48 IST
(file photo)

नाबालिग से रेप के मामले में आज आसाराम के लिए अहम् दिन साबित होने वाला है. जोधपुर अदालत आज आसाराम पर अपना फैसला सुनाएगी. सुरक्षा के इंतजामों को देखते हुए जोधपुर सेंट्रल जेल को ही कोर्ट में बदल दिया गया है. नाबालिग से रेप केस में बंद आसाराम को 31 अगस्त 2013 की रात इंदौर से गिरफ्तार किया था. गौरतलब है कि आसाराम पर छिंदवाड़ा गुरुकुल में पढ़ने वाली लड़की ने आसाराम पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा था.

1698 दिनों से आसाराम जेल में ही है और बेल के लिए कई बार प्रयास किया जा चुका है. सेशन कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक में इसके लिए गुहरा लगाई थी. बीमारी, उम्र का हवाला दिया लेकिन कोर्ट ने आसाराम की दलीलों पर यकीन नहीं किया. इस दौरान तीन गवाहों की मौत भी हो चुकी है.

ये भी पढ़ें- आसाराम पर फैसला सुनाने के लिए क्यों जेल को ही बनाना पड़ा कोर्ट?

आसाराम पर जिन धाराओं के तहत केस दर्ज किया उनके नियमों के मुताबिक राम जेठमलानी, सुभ्रमण्यम स्वामी, सलमान खुर्शीद जैसे देश के नामी वकील जेल से नहीं छुड़ा पाए.

किन धाराओं के तहत केस दर्ज हुआ
आसाराम पर 19 अगस्त 2013 को दिल्ली के कमलानगर थाने में एफआईआर दर्ज की गई. आसाराम पर जीरो नंबर की एफआईआर दर्ज की गई थी. इसमें आईपीसी की धारा 342, 376, 354-ए, 506, 509/34, जेजे एक्ट 23 व 26 और पोक्सो एक्ट की धारा 8 के तहत केस दर्ज किया गया था. इसके अलावा पॉक्सो एक्ट भी लगा है.

ये भी पढ़ें- नाबालिग से रेप मामले में आसाराम पर आज होगा फैसला, जेल में लगेगी अदालत

कौन सी हैं धाराएं

  • आईपीसी की धारा 370(4)
    यह धारा नाबालिग का अवैध व्यापार करने पर लगती है. इसमें 10 साल की सजा या आजीवन कारावास हो सकता है.
  • आईपीसी की धारा 342 यह धारा रेप के लिए बंधक बनाने पर लगी है. इसमें 1 साल की सजा का प्रावधान है.
  • आईपीसी की धारा 354ए, 506, 509, पॉक्सो एक्ट की धारा 7,8
    यह अश्लील हरकतें और धमकाने पर लगी है. इसमें 5 से 10 साल की सजा का प्रावधान है.
  • आईपीसी की धारा 376(2)(एफ), पॉक्सो एक्ट की धारा 5(एफ) और 6
  • धार्मिक गुरु बन कर रेप पर यह धाराएं लगी हैं. इन धाराओं में 10 साल तक की सजा का प्रावधान है. इसे उम्रकैद तक बढ़ाया जा सकता है.
  • आईपीसी की धारा 376(डी)
    गिरोह बना कर रेप लगने पर यह धारा लगी है. इसमें दस साल तक की सजा का प्रावधान है.

 

उम्रकैद की सजा हुई तब भी 8 साल ही बिताना होंगे

यदि आसाराम को उम्रकैद की सजा होती है, तब भी जेल में उसे 8 साल ही बिताना होंगे. जेल मैन्यूअल के अनुसार उम्रकैद की सजा होने पर अधिकतम 14 सालों तक जेल में रहना होता है. आसाराम 2013 से जेल में बंद है. इस हिसाब से वो करीब 6 साल जेल में बिता चुका है. यह 6 साल भी 14 में से कम हो जाएंगे. इसके बाद आसाराम को 8 साल ही जेल में बिताना होंगे. वहीं यदि आसाराम को 3 साल से ज्यादा की सजा होती है, तो फिर उसे जमानत के लिए हाईकोर्ट में अपील करना होगी.

POCSO एक्ट में बदलाव के बाद अब मिलेगी फांसी, लेकिन आसाराम पर नहीं होगा असर
हाल ही में सरकार ने पॉक्सो एक्ट में बदलाव किया है. इसमें नाबालिग से रेप करने पर आरोपी को फांसी पर लटकाने का प्रावधान किया गया है, लेकिन आसाराम पर यह लागू नहीं होगा. मप्र हाईकोर्ट के सीनियर एडवोकेट संजय मेहरा ने बताया कि जो अपराध जिस समय घटित हुआ है, उस समय के प्रावधानों के अनुसार ही सजा सुनाई जाती है. नए एक्ट में ऐसा भी कहीं उल्लेखित नहीं है कि यह एक्ट पुराने प्रकरणों पर भी लागू होगा. ऐसे में यह तय है कि आसाराम को फांसी की सजा तो नहीं होगी.

 

 

First published: 25 April 2018, 8:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी