Home » इंडिया » Asha worker drives auto 20 km at midnight to take pregnant woman to hospital in Karnataka
 

गर्भवती महिला को हुआ दर्द तो आशा वर्कर ने आधी रात को 20 KM ऑटो चलाकर पहुंचाया अस्पताल

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 July 2020, 8:58 IST

Karnataka: कर्नाटक में आशा कार्यकर्ता द्वारा मानवता की मिसाल पेश करने वाली एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसकी सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है. यहां तक कि उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी आशा कार्यकर्ता की जमकर तारीफ की है. घटना कर्नाटक के उडुपी जिले की है.

उडुपी जिले में एक आशा वर्कर ने गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए स्वयं आधी रात को 20 किलोमीटर ऑटो रिक्शा चलाया. आशा कार्यकर्ता ने अपने ऑटो से 20 किलोमीटर सरकारी अस्पताल में गर्भवती महिला को सुरक्षित पहुंचाया. इसके अगले दिन गर्भवती महिला ने अस्पताल में एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया.

दरअसल, उडुपी के पर्णानकिला गांव की आशा कार्यकर्ता राजीवी को आधी रात को एक फोन आया. फोन में स्थानीय लोगों ने बताया कि एक गर्भवती महिला की हालत ठीक नहीं है. लोगों ने बताया कि महिला को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत है. राजीवी के पास खुद का ऑटो है. इस ऑटो का इस्तेमाल वह निजी व आर्थिक जरूरतों के लिए करती हैं.

आधी रात में कोई साधन न मिलने की वजह से राजीवी खुद ऑटो चलाकर महिला के घर पहुंचीं. इसके बाद वह उसी ऑटो से गर्भवती महिला को अस्पताल ले गईं. जहां अगले दिन महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया. परिवार वाले आशा कार्यकर्ता की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं. राजीवी पर्णानकिला ग्राम पंचायत की स्वच्छ भारत मिशन की राजदूत भी हैं.

वहीं, जब देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को आशा कार्यकर्ता की इस मानवीय संवेदना का पता चला तो खुद उन्होंने ट्वीट करके उनके इस कदम की तारीफ की. उपराष्ट्रपति ने कहा कि राजीवी की सेवा अभिनंदनीय है. उनका यह मानवीय संवेदना अनुकरणीय है. वे शेष समय में ऑटो चला कर गर्भवती महिलाओं को सेवा प्रदान करती हैं. ईश्वर उनके प्रयासों को आशीर्वाद दें. 

Corona Virus Update: दुनियाभर में अब तक 6.48 लाख से ज्यादा लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ 61 लाख के पा

400 साल पुराने पेड़ को बचाने के लिए नितिन गडकरी ने बदला हाईवे का रूट, हुई जमकर तारीफ

First published: 26 July 2020, 8:58 IST
 
अगली कहानी