Home » इंडिया » asi allows photography at protected monuments After PM Narendra Modi questions rule
 

PM मोदी के हस्तक्षेप के बाद ASI ने ऐतिहासिक स्थलों पर फोटोग्राफी को दी मंजूरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2018, 11:52 IST

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने केन्द्र सरकार द्वारा संरक्षित पुरातत्व महत्व के धरोहर स्थलों के परिसर में फोटोग्राफी करने को मंजूरी दे दी है. ये फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के धरोहर स्थलों पर फोटोग्राफी निषेध जैसे नियमों पर सवाल उठाने के बाद लिया गया है. अब आप भारत के ऐतिहासिक धरोहरों को देखने के साथ ही वहां पर खूब फोटो भी खींच सकते हैं. धरोहर स्थलों की याद को फोटोग्राफी के जरिए आप संजो कर रख सकते हैं.

एएसआई ने ताजमहल, अंजता की गुफाएं और लेह पैलेस को छोड़कर सभी धरोहर स्थलों में फोटो खींचने की अनुमति दे दी है. केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने ट्वीट कर इस निर्णय की जानकारी दी. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, आज सुबह पीएम मोदी के विजन से प्रेरणा और मार्गरदर्शन लिया. अब अजंता की गुफाएं, लेह पैलेस और ताजमहल के मकबरे को छोड़कर केंद्र सरकार द्वारा संरक्षित सभी पुरातत्व महत्व के धरोहर स्थलों में फोटोग्राफी की अनुमति होगी.

आपको बता दें कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) केन्द्र सरकार द्वारा संरक्षित 3,686 प्राचीन स्मारकों और पुरातात्विक स्थलों, और राष्ट्रीय महत्व के अवशेषों का प्रबंधन करता है. गुरुवार को पीएम मोदी ने पुरातात्विक धरोहरों के संरक्षण में लोगों से हिस्सेदारी करने की अपील करते हुए इन स्थलों पर फोटोग्राफी पर रोक जैसे नियमों पर सवाल उठाए थे. पीएम मोदी ने कहा था कि युवाओं को पर्यटन गाइड के तौर पर प्रशिक्षित करने से रोजगार सृजन के साथ ही पुरातात्विक स्थलों के प्रति लोगों में रूचि जगेगी. इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा.

उन्होंने कहा कि धरोहर स्थलों को संरक्षित करने में लोगों की भागीदारी भी जरूरी है. अगल लोगों में अपनी धरोहरों के प्रति गर्व का भाव नहीं होगा तो उनकी सुरक्षा नहीं का जा सकती है. इसके लिए जरूरी है कि लोगों की हिस्सेदारी को भी इसमें जोड़ा जाए. इस दौरान पीएम मोदी ने आश्चर्य जताते हुए कहा था कि एएसआई क्यों कुछ धरोहर स्थलों पर लोगों को फोटो खींचने से मना करता है. जब प्रौद्योगिकी के उपयोग से उपग्रह के जरिये इतनी दूर से फोटो ली जा सकती है, तो फिर लोगों को इस तरह से फोटो खींचने से मना करना सही नहीं है.

ये भी पढ़ें- महिलाओं के बिना कृषि और डेयरी सेक्टर की कल्पना नहीं है संभव: पीएम मोदी

First published: 13 July 2018, 11:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी