Home » इंडिया » ASI increased ticket rates, Visiting all monuments including Taj Mahal becomes costly
 

ताज का दीदार हुआ महंगा, देश भर के स्मारकों का प्रवेश शुल्क बढ़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2016, 13:19 IST

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को देश भर की ऐतिहासिक विरासतों को देखने के लिए प्रवेश शुल्क में बढ़ोतरी कर दी है. देसी पर्यटकों के लिए शुल्क में तीन गुना तो विदेशियों के लिए 100 फीसदी का इजाफा किया गया है.

देश भर में ऑर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) के अधीन 116 ऐतिहासिक स्मारक हैं. जिनमें प्रवेश के लिए सभी को शुल्क चुकाना पड़ता है. यह शुल्क इन ऐतिहासिक धरोहरों के रख रखाव आदि के लिए खर्च किया जाता है.

अभी तक ए श्रेणी यानी विश्व विरासत स्मारकों (वर्ल्ड हैरीटेज मोनूमेंट्स) को देखने के लिए देसी पर्यटकों को 10 रुपये और विदेशी पर्यटकों को 250 रुपये प्रवेश शुल्क देना पड़ता था. लेकिन अब इनकी दरों को क्रमशः 30 और 500 रुपये कर दिया गया है.

पढ़ेंः बीते समय का संग-ए-मील हैं ये कोस मीनारें

एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि विश्व विरासत स्थलों के अलावा अन्य स्मारकों के लिए अब हिंदुस्तानी पर्यटकों को पांच की जगह 15 रुपये का प्रवेश शुल्क देना होगा. वहीं, पहले 100 रुपये देने वाले विदेशी पर्यटकों को अब इन स्मारकों के दीदार के लिए दोगुनी रकम यानी 200 रुपये खर्च करने होंगे. 

इतना ही नहीं इसके बाद अब दिल्ली और ऐतिहासिक इमारतों में फिल्मों की शूटिंग करने के लिए भी ज्यादा रकम चुकानी होगी. बता दें कि दिल्ली में तीन विश्व विरासत स्थल और सात अन्य स्मारक हैं.

पढ़ेंः जब आखिरी बादशाह ने खायी रोटी-चटनी

जहां पहले प्रतिदिन 5,000 रुपये के हिसाब से स्मारकों में शूटिंग की अनुमति मिलती थी. अब विश्व धरोहरों में इस दर को 20 गुना बढ़ाकर एक लाख रुपये प्रतिदिन कर दिया गया है. शूटिंग से पहले सुरक्षा राशि के रूप में 50 हजार रुपये भी जमा करने होंगे जिन्हें बाद में वापस लौटा दिया जाएगा. 

गौरतलब है कि प्रवेश शुल्क के दामों में बढ़ोतरी 10 सालों बाद की गई है. 

First published: 2 April 2016, 13:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी