Home » इंडिया » ASIC slams ramdev on patanjali misleading advertisements
 

पतंजलि के भ्रामक विज्ञापनों के लिए रामदेव को ASCI ने फिर फटकारा

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 August 2016, 13:18 IST
(पत्रिका)

भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (एएससीआई) ने उपभोक्ताओं को भ्रामक विज्ञापन दिखाने के लिए योगगुरु रामदेव के पंतजलि आयुर्वेद उत्पाद को फिर कड़ी फटकार लगाई है.

एएससीआई ने पतंजलि के अलावा एचयूएल, पेप्सीको, ब्रिटानिया, पिजा हट, अमेजन, एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स, वोल्टास, एक्सिस बैंक, एयर एशिया और फ्लिपकार्ट सहित कई अन्य कंपनियों को भी डांट लगाई है.

परिषद की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मई में उसे 155 शिकायतें मिलीं, जिनमें से 109 मामलों को उसने सही पाया है.

परिषद ने योग गुरु रामदेव के पंतजलि आयुर्वेद के जीरा बिस्कुट, कच्ची घानी सरसों तेल, केश कांति और दंतकांति सहित अन्य उत्पादों के खिलाफ शिकायतों को सही पाया है. नियामक ने पतंजलि के इन सभी विज्ञापनों को भ्रामक पाया है.

ऐसा नहीं है कि रामदेव के पतंजलि के खिलाफ उत्पादों के विज्ञापन में भ्रामक तथ्यों को फैलाए जाने का यह पहला मामला है. इससे पहले मार्च और अप्रैल में भी परिषद ने पतंजलि के खिलाफ छह मामलों को सही पाया था.

वहीं दूसरी ओर इस मामले में एचयूएल और पेप्सी की ओर से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. हालांकि पतंजलि आयुर्वेद ने फैसले पारित किए जाने के तरीकों पर सवाल उठाया है और आरोप लगाया है कि इस कदम के पीछे कुछ प्रतिस्पर्धी बहुराष्ट्रीय कंपनियों (एमएनसी) का हाथ है.

कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि वे इस मामले में कानूनी विकल्पों पर विचार कर रहे हैं क्योंकि गैर-सदस्यों के खिलाफ कोई आदेश नहीं पारित कर सकते हैं. उनके (एएससीआई) के खिलाफ कई फैसले हैं. इसके फैसले किसी गैर सदस्य पर बाध्यकारी नहीं होते हैं.

एएससीआई ने पेप्सीको इंडिया की उसके विज्ञापन हर बोतल पर पेटीएम कैश पक्का के लिए खिंचाई की है.

First published: 5 August 2016, 13:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी