Home » इंडिया » Assam government purchased Deendayal Upadhyay biography, spent 1.6 crore rupees
 

असम सरकार ने दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी खरीदने के लिए खर्च किये 1.6 करोड़ रुपये

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 September 2018, 11:02 IST
(File Photo)

असम सरकार ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जीवनी खरीदने के लिए 1.6 करोड़ रुपये की राशि खर्च की. भारतीय जनसंघ के संस्थापक दीनदयाल उपाध्याय की 15 खण्डों में छपी जीवनी की 60 हजार किताबें असम सरकार ने खरीदी  हैं. इस मामले में असम के सांस्कृतिक मामलों के मंत्री केशव महंत ने कहा, ''सरकार ने विभिन्न पुस्तकालयों, शैक्षणिक एवं अन्य संस्थानों के लिए यह पुस्तकें खरीदी हैं. ये पुस्तकें 15 खंडों में हैं और प्रत्येक की चार हजार प्रतियां खरीदी गई हैं.''

वहीं इस मामले में विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने आरोप लगाया है की ये सरकारी पैसे की बर्बादी है. गौरतलब है कि ये 60 हजार पुस्तकें असम सरकार के पुस्तक निदेशालय ने संस्कृति विभाग की सलाह पर खरीदी हैं. इन किताबों को नई दिल्ली के प्रभात प्रकाशन से खरीदा गया है.

त्योहारों पर पड़ी महंगाई की मार- TV, फ्रिज समेत 19 चीज़ों के बढ़े दाम

दीनदयाल की जीवनी खरीदने के मामले में सवाल पूछे जाने पर मंत्री केशव महंत ने कहा कि सरकार के पास दूसरी हस्तियों की जीवनी खरीदने का कोई प्रस्ताव नहीं है. वहीं कांग्रेस का कहना है कि ये सारी किताबें पुस्तकालयों में धूल से भर जाएंगी. कांग्रेस नेता प्रद्युत बारदोलोई ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि असम और पूर्वोत्तर के लोगों के बीच दीनदयाल का नाम इतना लोकप्रिय नहीं है. संभव है कि यहां कई लोगों ने दीनदयाल का नाम न सुना हो. इसी के साथ उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी संचालित सरकारों में हिदुत्ववादी मानसिकता के लोगों को अहम पदों पर नियुक्त किया जा रहा है.

First published: 27 September 2018, 10:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी