Home » इंडिया » Catch Hindi: assembly election 2016 catch special meet the voter Mintu Mitra
 

मतदाता से मुलाकातः विकास नहीं होगा तो हम फिर पार्टी बदल देंगे

सुदर्शना चक्रबर्ती | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST
QUICK PILL
कैच की चुनाव विशेष शृंखला \'मतदाता से मुलाकात\' में इस बार कैच ने बात की \r\nपश्चिम बंगाल की उत्तरी दमदम विधानसभा के मतदाता मिंटू मित्रा से.

पश्चिम बंगाल के चौबीस परगना ज़िले की उत्तरी दमदम सीट एक समय सीपीएम का गढ़ थी. इस विधानसभा में दो नगरपालिकाएं उत्तरी दमदम और न्यू बराकपुर आती हैं. पिछले विधानसभा चुनाव में टीएमसी के चंद्रिमा भट्टाचार्य ने सीपीएम की रेखा गोस्वामी को हराया था.

चंद्रिमा ममता बनर्जी सरकार कानून मंत्री हैं. उन्हें सीएम का करीबी भी माना जाता है. सीपीएम ने इस बार तन्मय भट्टाचार्य को चुनाव में उतारा है.

टीएमसी के समर्थक कहते हैं कि ममता सरकार में विधान सभा में काफी विकास कार्य हुआ है लेकिन संकरी सड़कें, खस्ताहाल यातायात और गंदगी कुछ और ही कहानी कहते हैं. फिर भी ज्यादातर लोग टीएमसी को समर्थन देते नज़र आते हैं.

मिंटू मित्रा रेलवे प्लेटफॉर्म पर जनरल स्टोर चलाते हैं. कैच ने उनसे बात करके जनता की आकांक्षाएं समझने की कोशिश की. पढ़ें बातचीत के चुनिंदा अंश-

इस चुनाव में आपको क्या उम्मीद हैै?


हमें तो बस विकास चाहिए. हम मध्यम-वर्गीय लोग हैं. हमें प्रत्याशी से इसके अलावा क्या उम्मीद हो सकती है? जो हमारी जरूरतों को समझेगा वही जीतेगा.

आपकी विधान सभा में हुए विकास कार्य से आप संतुष्ट हैं?


जो काम हुआ है उससे हम खुश हैं. अब मेरी उम्र ज्यादा है इसलिए मुझे नई नौकरी तो मिलेगी नहीं लेकिन इलाके में सफाई और पानी की व्यवस्था ठीक हुई है.

मैं ये नहीं कह रहा हूं कि सारे काम हो चुके हैं लेकिन कुछ अच्छे काम जरूर हुए हैं. यहां पहले से स्थिति सुधरी है.

और किन क्षेत्रों में विकास कार्य किए जाने की जरूरत है?


हमारे इलाके में जलजमाव की काफी समस्या है. सड़कों पर रोशनी की भी दिक्कत है.

आपके इलाके में महिला सुरक्षा की क्या स्थिति है?


इस मामले में स्थिति चिंताजनक है लेकिन कोई हर किसी को नहीं सुधार सकता. कुछ लोग हमेशा ही ऐसी हरकतें करते हैं. कुछ लोगों के आधार पर पूरे इलाके के बारे में राय नहीं बननी चाहिए. हमारे इलाके में ऐसी घटनाएं नहीं हुई हैं.

आपके हिसाब से इस बार कौन चुनाव जीतेगा?


(हंसते हुए) मैं इसपर कमेंट नहीं करूंगा. हम तटस्थ वोटर हैं. जो काम करेगा हम उसे वोट देंगे.

आप किसी पार्टी को सपोर्ट करते हैं?


हां, हम करते हैं. लेकिन हम पार्टी बदल सकते हैं. टीएमसी को सत्ता में कौन लाया? हम. पहले हम लेफ्ट के समर्थक थे बाद में हम टीएमसी से जुड़ गए. अब हमें लगेगा कि वो काम नहीं कर रहे हैं तो हम फिर बदलाव के लिए वोट करेंगे.

मेरा ये भी मानना है कि लोक सभा, विधान सभा या नगरपालिका कोई भी चुनाव हो हर वोटर को वोट देना चाहिए.

First published: 3 April 2016, 12:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी