Home » इंडिया » Atal Bihari Vajpayee funeral LIVE: after Atal bihari vajpayee death his this poem is viral on social media
 

अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद उनकी कविता सोशल मीडिया में हुई वायरल, आप भी पढ़ें

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 August 2018, 14:05 IST
(file photo )

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से पूरे देश में शोक की लहर है. वाजपेयी देश के सबसे लोकप्रिय नेता रहे थे. पूरा देश अपने लोकप्रिय नेता को सोशल मीडिया के द्वारा श्रद्धांजलि दे रहे हैं. सोशल मीडिया पर वाजपेयी की कविताएं खूब पोस्ट की जा रही हैं. उन्होंने अपने कई कविताएं लिखीं है, जिनमें से उनकी एक कविता सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा वायरल हो रही है. वाजपेयी के निधन के बाद उनकी कविता 'मौत से ठन गई' को पोस्ट कर लोग उनको श्रद्धांजलि दे रहे हैं. वाजपेयी ने इस कविता को साल 1988 में लिखा था. वाजपेयी ने बीमारी के समय में इस कविता को लिखा था. उस समय वाजपेयी जी ने मानों कि मौत का साक्षात्कार किया हो. उनकी ये कविता सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा वायरल हो रही है.

वाजपेयी की कविता जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है-


ठन गई! मौत से ठन गई! जूझने का मेरा इरादा न था,
मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था, रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,
यूं लगा जिंदगी से बड़ी हो गई. मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,
जिंदगी सिलसिला, आज कल की नहीं। मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं,
लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं? तू दबे पांव, चोरी-छिपे से न आ,
सामने वार कर फिर मुझे आजमा. मौत से बेखबर, जिंदगी का सफ़र,
शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर. बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,
दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं. प्यार इतना परायों से मुझको मिला,
न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला. हर चुनौती से दो हाथ मैंने किए,
आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए. आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,
नाव भंवरों की बांहों में मेहमान है. पार पाने का क़ायम मगर हौसला,
देख तेवर तूफ़ां का, तेवरी तन गई. मौत से ठन गई.

आपको बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी का बुधवार को 93 साल की उम्र में निधन हो गया. उन्होंने गुरुवार को शाम 5 बजकर 5 मिनट पर एम्स अस्पताल में अंतिम सांस ली. उनकी किडनी में संक्रमण हो गया था. मौत से 36 घंटे से पहले उनकी सेहत बहुत नाजुक हो गई थी. उनकी सेहत में किसी तरह का सुधार नहीं देखा जा रहा था. वाजेपयी का अंतिम संस्कार शुक्रवार को 4 बजे दिल्ली के स्मृति स्थल में किया जाएगा. वहीं पर उनकी समाधि बनाई जाएगी.

ये भी पढ़ें- अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर भाजपा मुख्यालय में रखा गया, अंतिम दर्शन को लंबी कतारें

First published: 17 August 2018, 13:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी