Home » इंडिया » Atal Bihari Vajpayee last tribute in BJP headquarter funeral in smriti sthal
 

अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर भाजपा मुख्यालय में रखा गया, अंतिम दर्शन को लंबी कतारें

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 August 2018, 11:19 IST

भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का 93 साल की उम्र में निधन हो गया. उनका पार्थिव शरीर उनके आवास कृष्णा मेनन मार्ग से दिल्ली के बीजेपी हेडक्वार्टर लाया जा रहा है. उनकी मौत के बाद देश भर में शोक की लहर दौड़ गई है. फिलहाल बीजेपी हेडक्वार्टर में लोगों का तांता लगा हुआ है.

बता दें कि सेना के सजे ट्रक से अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर बीजेपी मुख्यालय लाया गया. यहां दोपहर 1 बजे तक उनके पार्थिव शरीर को लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रका जाएगा. इसके बाद दोपहर एक बजे उनकी अंतिम यात्रा यहां से राष्ट्रीय स्मृति स्थल तक निकाली जाएगी. फिर शाम चार बजे पूर्व प्रधानमंत्री का अंतिम संस्कार किया जाएगा.

पढ़ें- अटल बिहारी वाजेपेयी के निधन पर लाल कृष्ण आडवाणी हुए भावुक, कहा- मुझे अटल जी बहुत याद आएंगे

उनके पार्थिव शरीर को उनके निवास 6 ए कृष्ण मार्ग से अकबर रोड, इंडिया गेट, तिलक मार्ग, आईटीओ होते हुए दीन दयाल मार्ग पर स्थिल बीजेपी मुख्यालय लाया गया. उनकी अंतिम यात्रा दीन दयाल मार्ग से डीडीयू मार्ग, बहादुरशाह ज़फर मार्ग, नेताजी सुभाष मार्ग, निषादराज मार्ग, रिंग रोड और फिर राजघाट के सामने से होते हुए स्मृति स्थल तक निकलेगी.

 

बता दें कि करीब 2 महीने पहले अटल बिहारी वाजपेयी को दिल्ली के AIIMS में भर्ती कराया गया था. उनको किडनी की नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण आदि के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था. अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नामक बीमारी से पीड़ित थे और वह साल 2009 से ही व्हीलचेयर पर थे.

पढ़ें- अलविदा अटल: इस गाड़ी में निकलेगी अंतिम यात्रा, शाम 4 बजे यहांं होगा अंतिम संस्कार

राजनीति के अजातशत्रु अटल बिहारी वाजपेयी 3 बार देश के प्रधानमंत्री रहे. वह पहली बार साल 1996 में प्रधानमंत्री बने हालांकि उनकी सरकार सिर्फ 13 दिनों तक ही रह पाई. दोबारा 1998 में वह फिर प्रधानमंत्री बने, तब उनकी सरकार 13 महीनों तक चली थी. इसके बाद साल 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी तीसरी बार प्रधानमंत्री बने और 5 सालों का कार्यकाल पूरा किया.

First published: 17 August 2018, 11:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी