Home » इंडिया » Atal Bihari Vajpayee passes away at AIIMS will be kept at BJP headquarters for last tributes
 

अलविदा 'अटल': इस जगह होगा अटल बिहारी वाजपेयी का अंतिम संस्कार

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2018, 19:24 IST

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जिंदगी और मौत की जंग हार गए हैं. लाइफ सपोर्ट सिस्टम भी राजनीति के अजातशत्रुु को नहीं बचा सकी. उनकी तबीयत को लेकर पिछले काफी समय से बेचैनी थी. आज शाम 5 बजकर पांच मिनट पर अटल जी ने एम्स में अंतिम सांस ली है. उनकी मौत के बाद देश भर में शोक की लहर दौड़ गई. वाजपेयी के निधन की जानकारी मिलते ही एम्स में नेताओं और अन्य हस्तियों का तांता लग गया.

गृह मंत्री राजनाथ सिंह के पहुंचने के बाद वाजपेयी के पार्थिव शरीर को एम्स से उनके निवास ले जाने की तैयारी की गई. पूर्व प्रधानमंत्री के पार्थिव शरीर को एम्स से उनके कृष्णा मेनन मार्ग स्थित आवास ले जाया गया, जहां रातभर उनके पार्थिव शरीर को रखा जाएगा.

इसके बाद कल (17 अगस्त) सुबह 9 बजे उनके पार्थिक शरीर को दिल्ली स्थित बीजेपी हेडक्वार्टर लाया जाएगा. यहां उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा. फिलहाल बीजेपी के झंडे को पार्टी मुख्यालय में आधा झुका दिया गया है. 

खबर है कि उनका अंतिम संस्कार स्मृति स्थल के पास किया जा सकता है. वाजपेयी के निधन के बाद राजघाट के शांतिवन इलाके में भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया है. एसपीजी को भी तैनात किया गया है.

बता दें कि करीब 2 महीनों पहले अटल बिहारी को AIIMS में भर्ती कराया गया था. अटल को किडनी की नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण आदि के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था. अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नामक बीमारी से पीड़ित थे और वह साल 2009 से ही व्हीलचेयर पर थे.

गौरतलब है कि राजनीति के अजातशत्रु अटल बिहारी वाजपेयी 3 बार देश के प्रधानमंत्री रहे. वह पहली बार साल 1996 में प्रधानमंत्री बने हालांकि उनकी सरकार सिर्फ 13 दिनों तक ही रह पाई. दोबारा 1998 में वह फिर प्रधानमंत्री बने, तब उनकी सरकार 13 महीनों तक चली थी. इसके बाद साल 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी तीसरी बार प्रधानमंत्री बने और 5 सालों का कार्यकाल पूरा किया.
First published: 16 August 2018, 19:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी