Home » इंडिया » Atal Bihari Vajpayee phone to Narendra Modi and say looking fat come Delhi
 

जब अटल बिहारी वाजपेयी ने फोन कर कहा- 'नरेंद्र भाई खा-खाकर मोटे हो गए हो'

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2018, 17:06 IST

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत नाजुक स्थिति में पहुंच गई है. उन्हें एम्स में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. एम्स ने उनका मेडिकल बुलेटिन जारी कर बताया है कि दुर्भाग्यवश अटल बिहारी वाजपेयी की हालत ज्यादा बिगड़ गई है. पीएम मोदी ने दोपहर में एम्स जाकर एक बार फिर उनकी तबीयत जानी है.

बता दें कि पीएम मोदी और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बीच बहुत ही खूबसूरत रिश्ता था. पीएम मोदी उन्हें अपना गुरू मानते थेेे. जब वह मात्र बीजेपी के कार्यकर्ता थे तब भी अटल बिहारी वाजपेयी जब पीएम मोदी से मिलते थे तो उन्हें गले लगा लेते थे. नरेंद्र मोदी को गुजरात का मुख्यमंत्री बनाने में अटल बिहारी वाजपेयी ने अहम भूमिका निभाई थी. इसका एक वाक्या बहुत ही मजेदार है.

पढ़ें- Video: जब अटल बिहारी वाजपेयी ने नरेंद्र मोदी को दी थी 'राजधर्म' निभाने की सीख और फिर..

दरअसल, साल 1995 में गुजरात में चुनाव जीतने के बाद बीजेपी ने नरेंद्र मोदी को दरकिनार कर केशुभाई पटेल को मुख्यमंत्री बना दिया था. इसके बाद नरेंद्र मोदी राजनीतिक जीवन को त्याग कर अज्ञातवास में चले गए थे. मोदी उन दिनों अमेरिका में रहकर पढ़ाई कर रहे थे.

तब प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अमेरिकी दौरे पर गए थे. जब अटल को इस बात का पता चला कि मोदी भी राजनीतिक अज्ञातवास पर यहीं हैं तो उन्होंने तुरंत बुलावा भेजकर उन्हें बुलाया और कहा- 'खा-खाकर मोटे हो गए हो नरेंद्र भाई.. ऐसे भागने से काम नहीं चलेगा, कब तक यहां रहोगे? दिल्ली आओ...'

पढ़ें- Video: जब अटल बिहारी वाजपेयी ने नरेेंद्र मोदी को मारने के लिए उठाया था हाथ और फिर...

वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी की किताब 'हार नहीं मानूंगा-अटल एक जीवन गाथा' के 12वें अध्याय में इस घटना का जिक्र है. इसके बाद नरेंद्र मोदी दिल्ली वापस आ गए और पार्टी के लिए काम करने लगे. मोदी को बीजेपी के पुराने ऑफिस अशोक रोड में एक कमरा दे दिया गया और संगठन को मजबूत करने के काम में लगा दिया गया. 

इसके बाद साल 2001 में गुजरात में आए भूकंप से राज्य को बड़ा नुकसान हुआ और तत्कालीन राज्य सरकार हालात संभालने में विफल रही. तब लोगों में सरकार के प्रति नाराजगी के कारण 2001 में केशु भाई पटेल को इस्तीफा देना पड़ा था. इसी समय नरेंद्र मोदी दिल्ली में एक अंतिम संस्कार में गए थे. उस वक्त उनके पास प्रधानमंत्री निवास से फोन आया और आकर मिलने के लिए कहा गया. इसके बाद उन्हें मुख्यमंत्री बनाकर गुजरात भेज दिया गया.

First published: 16 August 2018, 17:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी