Home » इंडिया » Attack on Arvind kejriwal, man entered with pistol in janta darbar
 

दिल्ली: केजरीवाल की सुरक्षा में फिर बड़ी लापरवाही, जेब में जिन्दा कारतूस लेकर मिलने पहुंचा युवक

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 November 2018, 10:28 IST

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल की सुरक्षा में भारी चूक का मामला सामने आया है. मंगलवार को जनता दरबार में एक व्यक्ति जिन्दा कारतूस के साथ केजरीवाल से मिलने की कोशिश कर रहा था, हालांकि व्यक्ति को चेकिंग के दौरान गेट पर रोक दिया गया. बताया जा रहा है कि ये सीएम केजरीवाल पर हमले की फ़िराक से जनता दरबार में जिंदा कारतूस लेकर आया था. इस बारे में भनक लगते ही पुलिस ने युवक को हिरासत में ले लिया है आरोपी से पूछताछ जारी है.

आरोपी का नाम मोहम्‍मद इमरान बताया जा रहा है. हिरासत में हुई पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह जिंदा कारतूस गलती से लेकर जनता दरबार में आ गया था. इस मामले में पुलिस अब आरोपी को कोर्ट में पेश करेगी. ये दूसरी बार है जब सीएम केजरीवाल पर हमले की सुरक्षा में चूक का मामला सामने आया है. इसके पहले दिल्ली सचिवालय में चेंबर से बाहर निकलते हुए एक व्यक्ति ने केजरीवाल पर मिर्च पाउडर फेंका था. उस दौरान हुई धक्का-मुक्की में केजरीवाल को चोट तो नहीं आई थी लेकिन उनका चश्‍मा टूट गया था. एक अधिकारी के अनुसार ये हमला तब हुआ जब केजरीवाल चेंबर से खाना खाने के लिए निकले थे. गौैरतलब है कि केजरीवाल का चेंबर तीसरे माले पर स्थित है.

योगी की सबसे ऊंची राम प्रतिमा का हुआ बहिष्कार, धर्म संसद ने कहा ये रामभक्तों के साथ बेईमानी

बताया जा रहा है कि आरोपी इमरान देशबंधु गुप्ता रोड की एक मस्जिद में मौलवी है. हिरासत में पूछताछ में उसने पुलिस को बताया, ''कुछ दिन पहले मस्जिद के दान के बक्शे में कोई ये कारतूस डाल गया था. इसके बाद उसने निकालकर अपने पर्स में रख लिया था.'' गौरतलब है कि इमरान उन्हीं मौलवियों में से एक है जिन्होनें केजरीवाल से मुलाकात कर वक्फ बोर्ड द्वारा उनकी सैलरी में इजाफा करवाने का आग्रह किया था.

वहीं सोमवार को ही एक रैली में लोगों को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा था, ''मेरे ऊपर 2 साल के अंदर 4 हमले हुए. ये लोग मुझे मरवाना चाहते हैं. ये लोग मुझे जिंदा नहीं छोड़ेंगे. मुझे पता है कि मेरी जिंदगी बहुत छोटी है, लेकिन दोस्‍तों मेरी एक ही ख्‍वाहिश है कि जितने भी दिन जिंदा हूं, मेरी एक-एक सांस इस देश की सेवा के लिए जानी चाहिए. और जिस दिन मैं मरूं, मेरे शरीर के खून का एक-एक कतरा इस देश के लिए जाना चाहिए.''

First published: 27 November 2018, 10:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी