Home » इंडिया » attorney general venugopal said rafale deal documents not stolen petitioners used photocopies
 

राफेल को लेकर सरकार ने बदला बयान, कहा- चोरी नहीं हुए हैं दस्तावेज

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2019, 8:17 IST

सुप्रीम कोर्ट में अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल ने बताया था कि राफेल सौदे से संबंधित दस्तावेज चोरी हो गए हैं, जिसको लेकर विपक्षियों ने सरकार पर जमकर निशाना साधा. इस मुद्दे पर काफी किरकिरी होने के बाद अब सरकार ने सफाई दी. सुप्रीम कोर्ट में अपने ही दिए बयान से अटॉर्नी जनरल पलट गए. अब उन्होंने कहा कि दस्तावेज चोरी नहीं हुए हैं, बल्कि लीक हुए हैं. ये अवैध रूप से फाइल लीक करने का मामला है.

सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को हुई सुनवाई में अटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पीठ के सामने बताया था कि राफेल सौदे से संबंधित दस्तावेज रक्षा मंत्रालय से चुराए गए थे.

अटॉर्नी ने राफेल फैसले की रिव्यू याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा था कि प्रशांत भूषण, यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी  की अर्जी जिन दस्तावेजों का हवाला दे रही है, वो तो चोरी हो चुके दस्तावेजों पर आधारित है. क्योंकि इन्हीं दस्तावेजों के आधार पर कुछ अखबारों और न्यूज एजेंसियों ने खबरें चलाई थी.

अटॉर्नी की इस सफाई के बाद चीफ जस्टिस गोगोई ने पूछा था कि मिस्टर अटॉर्नी ये खबर मीडिया में कब छपा? इसके जवाब में अटॉर्नी जनरल ने कहा था कि माई लॉर्ड आठ फरवरी को. कोर्ट ने फिर प्रश्न किया था कि तब से अब तक लगभग एक महीने का समय बीत चुका है. इस मामले में आपने क्या कार्रवाई की? इस सवाल पर अटॉर्नी जनरल ने कहा था कि अभी तो बस जांच ही चल रही है. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल से जवाब तलब कर लिया था.

पूर्व नेवी चीफ ने चुनाव आयोग को लिखी चिट्ठी, कहा- सेनाओं का मतदाताओं को लुभाने के लिए इस्तेमाल ना करें

First published: 9 March 2019, 8:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी