Home » इंडिया » Aurangabad: 14 migrant laborers sleeping on track died due to passing of goods train
 

औरंगाबाद में बड़ा हादसा : पटरी पर सो रहे 16 प्रवासी मजदूरों की मालगाड़ी के गुजरने से मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 May 2020, 9:31 IST

महाराष्ट्र के औरंगाबाद (Aurangabad) में एक बड़ा हादसा सामने आया है, जहां पटरी पर सो रहे प्रवासी मजदूरों के ऊपर मालगाड़ी गुजरने से 16 लोगों की मौत हो गई. यह घटना सुबह लगभग 5:15 बजे की है. ANI के अनुसार दक्षिण मध्य रेलवे (SCR) के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (CPRO) ने बताया स्थिति का जायज़ा लेने के RPF और स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंच रही है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह घटना करमाड पुलिस थाने के अंतर्गत हुई है. SP औरंगाबाद मोक्षदा पाटिल ने कहा ''सुबह 5:15 बजे बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई, एक मालगाड़ी गुजर रही थी उसके नीचे मजदूर आ गए.  इसमें 16 मजदूरों की मौत हो गई. एक घायल है, 4 लोग जो दूर बैठे थे उनसे हम पूछताछ कर रहे हैं.

कहा गया है कि नींद में होने के कारण किसी को मालगाड़ी के आने का अंदाजा नहीं हुआ. महाराष्ट्र रेल मंत्रालय ने कहा है ''आज सुबह ट्रैक पर कुछ मजदूरों को देखने के बाद मालगाड़ी के लोको पायलट ने ट्रेन को रोकने की कोशिश की, लेकिन परभणी-मनमाड सेक्शन के बदनपुर और करमाड स्टेशनों के बीच उन्हें टक्कर लग गई. घायलों को औरंगाबाद सिविल अस्पताल ले जाया गया है. जांच के आदेश दिए गए हैं. 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुःख जताते हुए कहा  ''महाराष्ट्र के औरंगाबाद में हुए रेल हादसे की खबर से मैं दुखी हूं. मैंने रेल मंत्री पीयूष गोयल से बातचीत की है और वे इस मामले पर बारीकी से नज़र रखे हुए हैं. सभी जरूरी मदद की जा रही है''. 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार ये सभी मजदूर एक स्टील फैक्ट्री में काम करते थे और औरंगाबाद से गांव जानेवाली ट्रेन पकड़ने के लिए जालना से औरंगाबाद की तरफ पैदल जा रहे थे. रात अधिक होने के चलते सभी लोग सटाना शिवार इलाके में पटरी पर सो गए. इससे पहले मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले में उन्हेल-मोहनपुरा मार्ग पर एक तेज रफ्तार ट्रक ने सड़क किनारे सो रही एक महिला सहित तीन श्रमिकों को 7 मई को कुचल दिया गया था.

अधिकारियों का कहना है कि सभी मजदूर जालौन में एक लोहे के कारखाने में काम करते थे और कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच मध्य प्रदेश वापस आ रहे थे. एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार औरंगाबाद के एसपी मोक्षदा पाटिल ने बताया ''वर्कर घर लौटने के लिए ट्रेन पकड़ने के लिए जालना से भुवसाल तक लगभग 170 किलोमीटर तक पैदल चल रहे थे. वे लगभग 45 किमी की दूरी तय करने के बाद आराम करने के लिए ट्रैक के पास रुक गए''.

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने कहा "महाराष्ट्र के औरंगाबाद में ट्रेन हादसे के बारे में जानकर गहरा दुख हुआ. शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं."

Coronavirus: भारत में लगातार चौथे दिन आये 3000 से ज्यादा मामले, दुनियाभर में 270,711 मौतें

First published: 8 May 2020, 8:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी