Home » इंडिया » Auto driver’s daughter tops PCS-J exam in Uttarakhand resident of Dehradun, father is overwhelmed with success
 

ऑटो ड्राइवर की बेटी ने उत्‍तराखंड PCS-J किया टॉप, देश कर रहा है सलाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 March 2018, 15:51 IST

परीक्षा कोई भी हो, यदि मेहनत की जाये तो सफलता के आड़े कुछ नहीं आता. न तो सामाजिक बंधन न ही गरीबी से तंग हालात .अपनी मेहनत और लगन से सफलता पा कर इस बात को सही साबित किया पूनम तोडी ने. देहरादून की पूनम टोडी ने उत्तराखंड पीसीएस-जे की परीक्षा में टॉप किया है.

पूनम के पिता ऑटो ड्राइवर हैं और अपनी बेटी की सफलता पर बहुत गर्व महसूस कर रहे हैं. उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने बुधवार को न्यायिक सेवा सिविल जज जूनियर डिविजन 2016 परीक्षा का अंतिम परिणाम जारी किया था. इसमें उत्तराखंड के सात और उत्तर प्रदेश के एक परीक्षार्थी को सफलता मिली है.

ये भी पढ़ें-

पूनम देहरादून के धर्मपुर की नेहरू कालोनी में रहती हैं. पूनम ने 2016 में परीक्षा दी थी तो उन्हें इसकी उम्मीद नहीं थी कि वह टॉप कर जाएंगी. परिणाम से खुश उनकी मां ने कहा, 'मैं चाहती हूं हर मां को मेरी बेटी जैसी ही बेटियां मिलें, जो नाम ऊंचा कर सकें.' पूनम के पिता अशोक टोडी ने कहा, 'मेरी बेटी ने इसके लिए बहुत मेहनत की है. उसकी सफलता का श्रेय उसके भाइयों को भी जाता है.'

ये भी पढ़ें- RRB ALP Recruitment 2018: 25,000 से ज्यादा पदों पर नौकरी का अवसर,जल्द करें आवेदन

पूनम के पिता अशोक बेटी की इस सफलता से बहुत खुश हैं. उन्होंने कहा कि एक पिता के तौर पर मैं अपनी भावनाएं शब्दों में बयां नहीं कर पा रहा, 'मैं चाहता हूं कि सभी बेटियां अपने माता-पिता को पूनम की तरह ही गर्व महसूस कराएं.'

 

अपनी सफलता को लेकर पूनम कहती हैं, 'मैंने मेहनत तो की ही थी, साथ ही हर कदम पर परिवार ने भी मेरा साथ दिया. मेरे पापा भले ही ऑटो चलाते हों लेकिन उन्होंने पैसे की कमी को कभी आड़े नहीं आने दिया. मैं अपना काम जिम्मेदारी से करूंगी. मैं बाकी पैरंट्स से भी कहना चाहती हूं कि अपनी बेटियों को पढ़ने का मौका दें.'

बहुत ही सामान्य परिवार से संबंध रखने वाली पूनम उन लोगों के लिए प्रेरणास्रोत भी है, जो गरीबी के कारण खुद को कमजोर समझते हैं. वह प्रेरणा है उन बेटियों के लिए जिनके मां-बाप अल्प शिक्षित हैं.

 

दो बार असफल होकर भी नहीं मानी हार 

पूनम पीसीएस-जे की परीक्षा में दो बार असफल भी रही. दो बार साक्षात्कार तक पहुंची, लेकिन सफलता नहीं मिली. तीसरी बार में सफलता मिली, तो इसलिए यह खास भी लग रही है. हालांकि उत्तर-प्रदेश में सहायक अभियोजन अधिकारी की परीक्षा में सफल हो चुकी थी. लेकिन पीसीएस-जे की परीक्षा में सफलता हासिल करना बहुत अच्छा लग रहा है.

कुल 7 लोगों को मिली सफलता

पीसीएस-जे की परीक्षा में पूनम टोडी ने तो टॉप किया है. इनके साथ ही उत्तराखंड की छह अन्य अभ्यर्थी भी इस परीक्षा में सफल हुए हैं. इनमें देहरादून की तनुजा कश्यप व चैरव बत्रा, अल्मोडा की उर्वशी रावत, उधमसिंह नगर के शैलेंद्र यादव, नैनीताल की करिश्मा डंगवाल और उत्तरकाशी के मनोज सिंह राणा. उत्तर प्रदेश के मेरठ की पल्लवी गुप्ता ने परीक्षा में सफलता हासिल की है.

First published: 1 March 2018, 15:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी