Home » इंडिया » Ayodhya dispute can be settled out of court; Sri Sri meets Ulema
 

अदालत से बाहर सुलझ सकता है अयोध्या विवाद, श्री श्री से मिले उलेमा

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2018, 16:45 IST

अयोध्या केस में पक्षकार हाजी महबूब का कहना है देश के मुसलमान कुर्बानी के लिए तैयार हैं. वह इस मामले प्रधानमंत्री मोदी से मिल सकते हैं. इसके बाद मान अनुमान यह भी लगाया जा रहा है कि क्या अयोध्या का मसला अदालत से बाहर सुलझ जायेगा.

NDTV की रिपोर्ट के अनुसार इससे पहले उलेमा श्री श्री रविशंकर के साथ बैंगलुर में मिले.रिपोर्ट के अनुसार मस्जिद विवाद का हल तलाशने के लिए हुई इस बैठक में कुछ बड़े मुस्लिम पक्षकार शामिल हुए थे.

हालांकि इस मुद्दे को लेकर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड में भी विभाजन हो गया है. बोर्ड का एक ग्रुप कोर्ट के फैसले के पक्ष में है जबकि दूसरा पक्ष कोर्ट के बाहर मामले के हल के पक्ष में है. बोर्ड की वर्किंग कमेटी के मैंबर और जमीयत उलेमा ए हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने राम मंदिर पर कोर्ट के बाहर किसी भी तरह की बातचीत करने का विरोध किया है.

 

इसमें मुकदमे के मुख्य पक्षकार सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जुफर फारुकी और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना सलमान नदवी भी शामिल थे. 1951 से बाबरी मस्जिद पर दावे की लड़ाई लड़ रहे
जुफर फारूकी ने श्रीश्री से बातचीत में कहा कि अगर सभी पक्ष समझौता चाहें तो मैं पहले से उनके साथ हूं.

बता दें कि अभी मस्जिद के लिए पैरवी करने वालों में ज्यादातर शिया उलेमा रहे हैं. इस पर कुछ लोग यह भी कहते रहे हैं आम तौर पर शिया मंदिर बनाने के पक्ष में हैं लेकिन सुन्नी तैयार नहीं है.

First published: 9 February 2018, 16:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी