Home » इंडिया » Ayodhya: Supreme Court declines urgent hearing of Subramanian Swamy’s plea on Ram temple
 

अयोध्या विवाद: सुब्रमण्यम स्वामी को SC से तगड़ा झटका, याचिका पर जल्द सुनवाई से इनकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 July 2018, 13:08 IST

देश की शीर्ष अदालत से बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी को बड़ा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या राम जन्मभूमि मामले में सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर जल्द सुनवाई से इनकार कर दिया है. स्वामी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर अयोध्या राम जन्मभूमि में पूजा के अधिकार की मांग की थी.

सुब्रमण्यम स्वामी ने अपनी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की थी. स्वामी ने अपनी याचिका में कहा था कि सम्पत्ति के अधिकार को लेकर मुकदमा नहीं है, लेकिन मुझे पूजा करने का अधिकार है. स्वामी ने कहा था कि प्रत्येक हिन्दू को पूजा करने का अधिकार है और यह अधिकार सम्पत्ति के अधिकार से ऊपर है. 

 

बता दें कि कोर्ट ने अयोध्या मुख्य मामले की सुनवाई के दौरान उनकी याचिका को मुख्य मामले से अलग कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट साफ कर चुका था कि इस मामले को आस्था की तरह नहीं बल्कि जमीनी विवाद के तौर पर देखेगा.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट 14 मार्च से अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले पर रोजाना सुनवाई कर रहा है. सुप्रीम कोर्ट की पीठ इलाहाबाद हाईकोर्ट के 2010 के फैसले के खिलाफ दायर 13 अपीलों पर सुनवाई कर रहा है. हाईकोर्ट ने अपने फैसले में अयोध्या में 2.77 एकड़ के इस विवादित स्थल को इस विवाद के तीनों पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और भगवान राम लला के बीच बांटने का आदेश दिया था.

पढ़ें- बुराड़ी मर्डर मिस्ट्री: छोटे भाई ने लिखी थी सामूहिक मौत की स्क्रिप्ट, तंत्र-मंत्र में फंस गए परिवार वाले !

6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद को गिरा दिया गया था. इस मामले में आपराधिक केस के साथ-साथ दीवानी मुकदमा भी चला. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 30 सितंबर 2010 को अयोध्या टाइटल विवाद में फैसला दिया था. फैसले में कहा गया था कि विवादित लैंड को 3 बराबर हिस्सों में बांटा जाए, जिस जगह रामलला की मूर्ति है उसे रामलला विराजमान को दिया जाए. सीता रसोई और राम चबूतरा निर्मोही अखाड़े को दिया जाए जबकि बाकी का एक तिहाई जमीन सुन्नी वक्फ बोर्ड को दी जाए.

First published: 3 July 2018, 13:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी