Home » इंडिया » Ayodhya Verdict: Reaction From Pakistan After Supreme Court Verdict
 

Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पाकिस्तान से आई तीखी प्रतिक्रिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2019, 15:41 IST

शानिवार को भारतीय सुप्रीम कोर्ट की पांच न्यायधीशों की संवैधानिक पीठ ने अयोध्या राम जन्म भूमि विवाद पर सर्वसम्मति से अपना फैसला सुनाया है. अदालत ने अपने फैसले में साफ तौर पर कहा कि विवादित राम जन्म भूमि राम जन्म न्यास को दी जाए. जबकि राज्य सरकार को आदेश दिया है कि वो मुस्लिम को अयोध्या में ही पांच एकड़ की जमीन दी जाए. भारत में जहां हर पक्ष के लोगों ने इस फैसले का स्वागत किया है जबकि दूसरी तरफ पाकिस्तान में सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले की काफी आलोचान हो रही है. पत्रकार, राजनेता, और कलाकार उन लोगों में शामिल है जो सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का विरोध कर रहे है.

पाकिस्तान रेडियो के अनुसार पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने सुप्रीम कोर्ट से इस फैसले के बाद कहा कि इस फैसले से मोदी सरकार की कट्टरता झलकती है. इतना ही नहीं पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इस बात पर भी सवाल उठाए कि आखिर जिस दिन करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन किया जा रहा है उसी दिन सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर फ़ैसला क्यों सुनाया. क़ुरैशी ने कहा, ''भारत में मुसलमान पहले से ही दबाव में हैं और सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद और दबाव बढ़ेगा.'

वहीं पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता प्रवक्ता आसिफ़ ग़फ़ूर ने ट्वीट कर कहा, 'दुनिया ने एक बार फिर से अतिवादी भारत का असली चेहरा देख लिया है. पाँच अगस्त को कश्मीर का भारत ने संवैधानिक दर्जा ख़त्म किया और आज बाबरी मस्जिद पर फ़ैसला आया. दूसरी तरफ़ पाकिस्तान दूसरे धर्म का आदर करते हुए गुरु नानक के सेवकों के लिए करतारपुर कॉरिडोर खोल दिया.'

पाकिस्तान के कलाकार और पाइलट फख्र-ए-आलम ने ट्विट किया,'पाकिस्तान ने आज करतारपुर कॉरिडोर खोला है ऐसे में मैं सभी सिख भाइयों और बहनों का स्वागत करने के लिए गर्व और खुशी से भर गया हूं और साथ ही मैं अयोध्या फैसले की वजह से बेहद दुखी महसूस कर रहा हूं. भारत में सभी के लिए प्रार्थना करता हूं. यह अतुल्य भारत, धर्मनिरपेक्ष भारत नहीं है. यह भारत के लिए एक शर्मनाक दिन है.'

 

अपने विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले पाकिस्तान के विज्ञान और तकनीक मंत्री चौधरी फ़वाद हुसैन ने इस मामले पर कहा,'शर्मनाक, फालतू, अवैध और अनैतिक है.' 

पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार ने ट्विट किया,'बाबरी मस्जिद पर जिस वक़्त फ़ैसला आया उससे कई सवाल खड़े होते हैं. भारत के सुप्रीम कोर्ट ने इस हफ़्ते फ़ैसला क्यों सुनाया? क्या पाकिस्तान ने सिखों के लिए करतारपुर में जो किया उसकी प्रतिक्रिया में यह है? यह फ़ैसला क़ानून के आधार पर है या बीजेपी के घोषणापत्र के आधार पर.'

पाकिस्तान का अपने टीवी चैनलों को आदेश- 15 अगस्त को दिखाएं एंटी-इंडिया शो

First published: 9 November 2019, 15:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी