Home » इंडिया » Ayodhya Verdict: Rumor spread on Facebook, Whatsapp and Twitter is dangerous
 

अयोध्या केस: Facebook, Whatsapp और Twitter पर अफवाह फैलाई तो खैर नहीं, होगी बड़ी सजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2019, 10:10 IST

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद के बहुप्रतीक्षित मामले की आज सुनवाई होने जा रही है. सुप्रीम कोर्ट इस मामले में आज अपना फैसला देने जा रहा है. इसके साथ ही सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों को चेतावनी जारी कर दी गई है. फैसले को लेकर देशभर में सुरक्षा के इंतजाम कड़े कर दिए गए हैं.

सोशल मीडिया पर खासतौर पर नजर रखी जा रही है. लोगों को विवादित पोस्ट ना करने का फरमान जारी किया गया है. फेसबुक, व्हॉट्सऐप और ट्विटर पर लोगों को सावधानी बरतने को कहा गया है. व्हॉट्सऐप के ग्रुपों में मैसेज को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी गई है. यदि ग्रुप में कोई भी विवादित मैसेज करता है तो इसके लिए एडमिन को जिम्मेदार माना जाएगा.

उत्तर प्रदेश में पुलिस ने अब तक 72 लोगों को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा 670 लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट को ब्लॉक करने के लिए लिखा गया है. यूपी में सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए एक टीम का गठन किया गया है.

यूपी के अलीगढ़ में इंटरनेट बंद कर दिया गया है. यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि राज्य में सुरक्षा के मद्देनजर विशेष सतर्कता बरती जा रही है. अगर जरूरत पड़ी तो अफवाहों को फैलाने से रोकने के लिए और जगहों पर इंटरनेट बंद किया जा सकता है.

यूपी मेें सोशल मीडिया मॉनीटर टीम बनाई गई है. साइबर क्राइम टीम के प्रभारी इसकी अगुवाई कर रहे हैं. फेसबुक और ट्विटर में किए जा रहे पोस्ट तथा व्हॉट्सऐप के जरिये अयोध्या मामले पर नकारात्मक संदेश भेजने वाले लोग मॉनीटर टीम के रडार पर हैं.

अयोध्या केस: पूरे देश में कड़ी हुई सुरक्षा व्यवस्था, हेलीकॉप्टर से रखी जा रही नजर

अयोध्या केस : ये पांच जज सुनाएंगे फैसला, जानिए कब तक आएगा फैसला

First published: 9 November 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी