Home » इंडिया » Azam Khan on Brijpal Teotia attack, Wrong doing leads to shot at
 

आजम खान: हरकतें खराब हों, तभी गोली लगती है

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 13 August 2016, 11:30 IST
(फाइल फोटो)

आपत्तिजनक बयानों के लिए चर्चित यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है. इस बार आजम खान ने बृजपाल तेवतिया पर हुए हमले के मामले में बयान देकर सबको चौंका दिया है.

हैरानी की बात यह है कि जहां सभी दल तेवतिया के स्वस्थ होने की कामना करते हुए अखिलेश की सपा सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं, वहीं आजम ने इस मामले में तेवतिया पर ही उंगली उठाते हुए कहा है कि नेकी का काम करने वाले को कभी गोली नहीं लगती, हरकतें खराब हों तभी गोली लगती है.

बृजपाल तेवतिया पर जानलेवा हमले के बाद से बसपा और भाजपा ने सपा सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए अखिलेश यादव से इस्तीफे की मांग की है.

सपा नेता ने गुरुवार रात गाजियाबाद में हुई फायरिंग के लिए बृजपाल तेवतिया को ही जिम्मेदार ठहराते हुए कहा, "न तो मारने वाला अच्छा है और न मरने वाला, जिसको गोली मारी है वो भी बुरा ही होगा."

पढ़ें: भाजपा नेता पर AK-47 से हमला, 100 राउंड गोलीबारी से थर्राया गाजियाबाद

आजम ने कहा, "अगर वह नेता है, तो उसकी मुझे जानकारी नहीं है. जिसने मारा है वो भी अपराधी है और जिसको गोली लगी है, उसका कारण तो मालूम होना चाहिए. नेकी का काम करने में गोली नहीं लगती है, हरकते खराब हों तभी गोली लगती है."

पीएम मोदी पर निशाना

वहीं पीएम मोदी द्वारा दलितों के प्रति सहानुभूति दिखाने के मामले में आजम खान ने पलटवार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने अपनी हत्या के लिए लोगों को उकसाया है. इसलिए वे सीआरपीसी के मुजरिम हैं. उनका थाने में चालान होना चाहिये.

आजम ने साथ ही कहा, "पीएम मोदी सिर्फ चुनावी कसरत करते दिख रहे हैं. आम जनता से उनका कोई सरोकार नहीं है." हाल ही में पीएम मोदी ने कहा था कि मारनी है तो मुझे गोली मार दो, लेकिन दलित भाइयों पर हमले करना बंद करो.

आजम खान रामपुर में चाइनीज मांझे से घायल होकर मरने वाले युवक अनस शम्सी के यहां गए थे. आजम ने इस दौरान परिजनों को ढांढस बंधाया. साथ ही अधिकारियों को चाइनीज मांझा बेचने व रखने वालों पर सख्त कार्रवाई के दिशा-निर्देश दिए.

First published: 13 August 2016, 11:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी