Home » इंडिया » Bail of Umar Khalid, Anirban Bhattacharya: Patiala House Court reserves for March 18
 

कोर्ट ने उमर खालिद और अनिर्बान की जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

पटियाला हाउस कोर्ट ने आज जेएनयू विवाद में देशद्रोह के आरोपी उमर खालिद और अनिर्बान की जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया है. कोर्ट इस मामले में 18 मार्च को फैसला सुनाएगी.

पटियाला हाउस कोर्ट में उमर खालिद और अनिर्बान ने अपनी जमानत याचिका दायर करते हुए दलील दी थी कि जांच एजेंसियों को देशद्रोह के मामले में अब तक कोई ठोस सबूत नहीं मिला है. इस मामले में एक अन्य आरोपी छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को हाईकोर्ट के द्वारा जमानत मिल चुकी है. इस आधार पर माननीय कोर्ट के द्वारा उन्हें ज़मानत दी जाए.

उधर जेएनयू के उच्च स्तरीय जांच पैनल ने देशद्रोह मामले में अभी न्यायिक हिरासत में जेल में बंद दो छात्रों उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को वैमनस्यता, जातिगत या क्षेत्रीय भावनाएं भड़काने का ‘दोषी’ पाया है.

जेएनयू यूनिवर्सिटी प्रशासन ने तिहाड़ जेल के कारागार उप महानिरीक्षक के जरिए अनिर्बान और उमर को कारण बताओ नोटिस दिया है.

यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अनिर्बान को दिये कारण बताओ नोटिस में इस बात को उल्लेख किया है कि अनिर्बान ने कार्यक्रम के बारे में युनिवर्सिटी प्रशासन को गलत सूचना दी है. अनिर्बान को भेजे नोटिस में कैंपस में किसी बाहरी व्यक्ति के अनाधिकार प्रवेश या यूनिवर्सिटी कैंपस के किसी हिस्से पर कब्जा करना अथवा उसमें सहयोग करने की बात भी शामिल है.

यूनिवर्सिटी प्रशासन के सूत्रों के मुताबिक उमर खालिद के खिलाफ भी नोटिस में वही आरोप लगाए गए हैं.

गौरतलब है कि पांच सदस्यीय कमेटी ने यूनिवर्सिटी के नियमों और अनुशासनात्मक नियमों के उल्लंघन का दोषी पाते हुए  जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार, अनिर्बान और उमर समेत 21 छात्रों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

First published: 16 March 2016, 2:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी