Home » इंडिया » Gun salutes being paid to BSF Jawan Nitin in Etawah, Shivpal Yadav also pays his tribute
 

बारामूला हमला: शहीद नितिन को इटावा में अंतिम सलामी, शिवपाल भी हुए शामिल

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 October 2016, 10:18 IST
(एएनआई)

रविवार रात उत्तरी कश्मीर के बारामूला में सेना के कैंप पर आतंकी हमले को नाकाम करने वाले शहीद बीएसएफ के जवान नितिन को इटावा में अंतिम विदाई दी गई. शहीद नितिन की शहादत को सलाम करने के लिए इटावा में जनसैलाब उमड़ पड़ा.

बीएसएफ जवान नितिन ने आतंकियों का मुकाबला करते हुए उन्हें सेना के कैंप में दाखिल नहीं होने दिया था, जिसकी वजह से उरी जैसा हमला नाकाम हो गया था. इस हमले में बीएसएफ के चार जवान जख्मी हुए हैं.

उत्तर प्रदेश के इटावा के रहने वाले नितिन महज 24 साल के थे. उनकी शहादत पर परिवार वालों और इलाके के लोगों को गर्व है. नितिन को सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई. 

20 लाख की आर्थिक मदद का एलान

नितिन की शहादत को सलाम करने के लिए उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव भी उनके घर पहुंचे. गौरतलब है कि इटावा सपा के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव का गृह जिला भी है.

अंतिम संस्कार में शामिल होने के दौरान शिवपाल यादव ने कहा, "हम सभी को नितिन कुमार पर गर्व है. हम यूपी सरकार की तरफ से उनके परिवार वालों को 20 लाख रुपये की मुआवजा राशि देंगे. उनके नाम पर इटावा में एक पार्क भी बनाया जाएगा."

हमले के बाद फरार हुए थे आतंकी

उत्तरी कश्मीर के बारामूला में सेना के कैंप पर हमला करने वाले आतंकी फरार होने में कामयाब हो गए थे. पहले यह खबर आई थी कि एनकाउंटर के दौरान दो आतंकी मारे गए, लेकिन बाद में पता चला कि अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकी बच निकलने में कामयाब रहे.

एलओसी पार सेना के सर्जिकल स्ट्राइक के महज चार दिन बाद बारामूला में रविवार रात आतंकियों ने राष्ट्रीय राइफल्स और बीएसएफ के कैंप को निशाना बनाया था. हमले में बीएसफ जवान नितिन शहीद हो गए थे.

बारामूला के एसएसपी इम्तियाज हुसैन ने कहा था, "यह एक नागरिक इलाका है, लिहाजा आतंकियों ने लोगों को ढाल के तौर पर इस्तेमाल किया. इस वजह से हम उन्हें माकूल जवाब नहीं दे सके और वे फरार होने में कामयाब रहे."

एसएसपी का कहना है, "कुछ देर के लिए दोनों तरफ से फायरिंग हुई. आतंकी कैंप में घुसने में सफल नहीं हो पाए. सर्च ऑपरेशन फिलहाल खत्म कर दिया गया है."

आतंकियों के भाग निकलने की बात करते हुए एसएसपी इम्तियाज हुसैन ने कहा, "रात होने की वजह से गहरा अंधेरा था. इसके अलावा नागरिकों को नुकसान पहुंचने की संभावना को देखते हुए प्रभावी तरीके से जवीबी कार्रवाई नहीं हो सकी."

First published: 4 October 2016, 10:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी