Home » इंडिया » Barber beaten up for cutting hair of Dalits in Mehsana Gujrat
 

गुजरात: दलितों के बाल काटने पर नाई को जमकर पीटा, पुलिस ने चार लोगों को पकड़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 June 2018, 9:25 IST

देश में दलितों के नाम पर छुआछूत और अत्याचार की खबरें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. गुजरात के मेहसाणा जिले से एक ऐसी ही खबर आई है. यहां एक नाई को कुछ लोगों ने सिर्फ इसलिए पीटा गया क्योंकि उसने दलितों के बाल काट दिए थे. नाई को पीटने के आरोप में कथित उच्च जाति के चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मेहसाणा जिले के सत्लसना तालुका में स्थित उमरेचा गांव में हुई इस घटना पर पीड़ित नाई की मां जसिबेन भगवानदास ने सत्लसना पुलिस स्टेशन में मामले की शिकायत दर्ज कराई है. मां के अनुसार, उनका बेटा जिगर गांव में बाल काटने की दुकान चलाता है. इस दौरान उसने दलितों के भी बाल काटे. जिस पर नाराज कुछ कथित उच्च जाति के लोगों ने रविवार की रात उस पर हमला कर दिया.

मां ने पुलिस को शिकायत में बताया कि उनके बेटे की पिटाई गांव में ही रहने वाले गोविंद चौधरी, नानजी चौधरी, राजेश चौधरी और वसंत चौधरी ने की है. उन लोगों ने उनके बेटे को दलितों के बाल काटने पर जमकर लात-जूतों से पीटा.

 

इस बाबत मामले की जांच कर रहे सब इंस्पेक्टर रतिलाल मकवाना ने कहा कि पीड़ित की मां ने कथित तौर पर कहा कि उनके बेटे को करीब 10 दिनों पहले आरोपियों ने धमकी दी थी कि वह किसी भी दलित आदमी के बाल ना काटे. हालांकि जिगर ने उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया. सब इंस्पेक्टर ने बताया कि उच्च जाति के चारों व्यक्तियों पर आरोप है कि उन्होंने दुकान में दलितों का मनोरंजन करने के लिए जिगर पर हमला किया था.

पढ़ें- लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार लाल किले से लाखों केंद्रीय कर्मचारियों को देगी ये सौगात

मकवाना ने आगे बताया कि उन्होंने गांव जाकर बहुत से दलितों के बयान दर्ज किए हैं जिसमें उन्होंने कहा है कि उन्हें जिगर से संबंधित कभी किसी मुद्दे का सामना नहीं करना पड़ा. साथ ही गांव के दलितों को कभी किसी ने भी जिगर की दुकान में जाने को लेकर धमकी नहीं दी.

मकवाना ने बताया कि उमरेचा गांव की जनसंख्या करीब 1800 है. जिसमें 40-50 दलित परिवार रहते हैं. हालांकि उन्होंने बताया कि इस गांव में ना तो कोई जातीय टकराव है और ना ही इतिहास में किसी भी दलित से सामाजिक बहिष्कार जैसी कोई घटना हुई है.

First published: 26 June 2018, 9:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी