Home » इंडिया » Be sure before taking new currency notes: fake notes of Rs. 2000 being used in market
 

देख परख कर लें नए नोटः धोखेबाज चला रहे 2000 का नकली नोट

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 November 2016, 19:31 IST

कालेधन और नकली नोटों के प्रचलन पर रोक लगाने की सरकार की कवायद को बेकार साबित करने की कोशिश शुरू हो गई है. ताजा मामला 2000 रुपये के नए करेंसी नोट से जुड़ा हुआ है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा नोट जारी करने के दो दिन बाद ही बाजार में 2000 का नकली नोट भी आ गया. शनिवार को कर्नाटक में एक व्यक्ति ने एक किसान को 2,000 का जाली नोट दे दिया. असल में ये नोट असली नोट की फोटोकॉपी निकला.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक चिकमंगलूर में अशोक नामक एक प्याज विक्रेता को एक आदमी प्याज के बदले 2000 रुपये का नकली नोट थमा गया. नकली नोट लेकर आए आदमी ने किसान को बताया कि ये बैंक से जारी असली नोट है. 

चूंकि किसान ने इससे पहले 2000 रुपये का असली नोट नहीं देखा था इसलिए नासमझी में उसने इसे ले लिया. जब बाद में अशोक ने ये 2000 रुपये का नोट अपने दोस्तों को दिखाया तो उसे पता चला कि ये नोट की फोटोकॉपी है. पुलिस अधीक्षक के. अन्नामलाई ने बताया कि वो नोट असली नोट की फोटोकॉपी था. उसे कोई भी इसे आसानी से पहचान सकता है.

कैसे पहचानें 500 और 2000 के नए नोट

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने शुक्रवार से 500 और 2000 रुपये के जो नए नोट जारी किए उन्हे सुरक्षा की दृष्टि से आदर्श बताया गया है. इन नोटों में ऐसे कई फीचर्स हैं जिनसे उनकी नकल करना बहुत मुश्किल होगा. 

आरबीआई के अनुसार 2000 रुपये के नए नोट में कई सुरक्षा मानक जोड़े गए हैं, जिनसे आसानी से असली-नकली नोट की पहचान की जा सकती है. इन नोटों पर पारदर्शी रूप से छपे 2,000 को रोशनी के आगे रखने पर आगे-पीछे से देखा जा सकता है. इसमें 2000 का अंक गुप्त ढंग से भी छपा है, जो कि आंखों से 45 डिग्री के कोण पर ले जाने पर ही दिखेगा.

इस नोट में लगे रंग बदलने वाले सुरक्षा धागों पर भारत, आरबीआई और 2,000 छपा है. नोट को थोड़ा झुकाने पर इसमें लगे धागे का रंग हरे से नीले में बदल जाएगा. 

वहीं, दृष्टिबाधित लोगों की सहूलियत के लिए इसमें महात्मा गांधी और अशोक स्तंभ की उभरी हुई तस्वीर छापी गई हैं. कई लोगों ने अभी भी 500 और 2000 रुपये के नए नोटों को देखा भी नहीं हैं. ऐसे में इन बातों को ध्यान में रखकर आप जालसाजी और धोखाधड़ी से बच सकते हैं.

First published: 13 November 2016, 19:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी