Home » इंडिया » bhagalpur: tejasvi yadav asks nitish kumar why central minister ashwini chaubey son is not arrested when he is live on facebook
 

भागलपुर हिंसा: केंद्रीय मंत्री के बेटे के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट, Facebook पर लाइव लेकिन पुलिस को नहीं है पता

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 March 2018, 12:24 IST

बिहार के भागलपुर में बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की रैली का नेतृत्व केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के बेटे अरिजीत शाश्वत ने किया था. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार इन कार्यकर्ताओं ने ही कथित तौर पर भड़काऊ नारे लगाए, जिससे साम्प्रदायिक तनाव फैला था.

रिपोर्ट के अनुसार इस शोभायात्रा का आयोजन शनिवार हिंदू नव वर्ष की पूर्व संध्या पर भारतीय नववर्ष जागृति समिति द्वारा आयोजित किया था. ये 15 किलोमीटर लंबी ये शोभायात्रा आधा दर्जन ऐसी जगहों से गुजरी जो मुसलमानों के प्रभाव वाले थे. इस दौरान मुस्लिम बहुल इलाके में मेडिनी चौक में तनाव उत्पन्न हुआ था.

ये भी पढ़ें- यूनिवर्सिटी की हॉस्टल में सैनेटरी पैड्स देखकर भड़की वार्डन, चेकिंग के नाम पर उतरवाए 40 लड़कियों के कपड़े

 

वहीं केंद्रीय राज्य मंत्री ने अपने बेटे की गिरफ़्तारी के वारंट को गलत बताया है उनका कहना है कि उनका बेटा बिल्कुल सही है और उसने कोई गलत काम नहीं किया है.गौरतलब है कि चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत के खिलाफ यह वारंट इसलिए जारी किया गया है क्योंकि उन्होंने 17 मार्च को बिना किसी इजाजत के जुलूस निकाला था.उनके साथ जुलूस में बजरंग दल, आरएसएस और बीजेपी के लोग भी शामिल थे.

यह जुलूस भागलपुर के नाथनगर में सांप्रदायिक हिंसा का कारण बना. इसी कारण पुलिस द्वारा दो एफआईआर दर्ज की गईं.जिसमें केन्द्रीय मंत्री के बेटे को नामजद अभियुक्त बनाया गया है. बेटे के बचाव में आए केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि उनका बेटा कहीं छुपा हुआ नहीं है और जब वो गलत नहीं है तो वह सरेंडर क्यों करेगा.उनके अनुसार उनका बेटा 25 तारीख को राम नवमी के अवसर पर अपने गांव भी आया था और उसने आरती भी की थी.

ये भी पढ़ें- BJP MLA के विवादित बोल, बॉयफ्रेंड बनाने से होते हैं लड़कियों पर अत्याचार

वहीं अर्जित की तरफ से भी बयान आया है जिसमें उन्होंने कहा है कि उन्हें नामजद आरोपी क्यों बनाया गया है.क्या भारत माता की जयकार करना या वंदे मातरम करना गुनाह है?

उनका कहना है कि मैं न्यायालय की शरण में हूं.भागते वो हैं, खोजना उनको पड़ता है जो कहीं गायब हो गए हों, मैं समाज के बीच में हूं.साथ ही उन्होंने कहा कि मैं सरेंडर क्यों करूं? कोर्ट वारंट जारी करता है पर कोर्ट शरण भी देता है.अगर आप एक बार कोर्ट पहुंच जाएं तो आपको वहीं करना पड़ता है जो कोर्ट तय करता है.

तेजस्वी यादव ने किया नितीश कुमार का घिराव

पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने भी पूरे प्रकरण पर नीतीश कुमार को घेरा है.तेजस्वी ने ट्वीट में लिखा है- नीतीश सरकार सुनिए, केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित चौबे एक केस में फरार है.नीतीश सरकार ने उनके खिलाफ भागलपुर में दंगा फैलाने का वारंट जारी किया है पर वह तो राम नवमी के अवसर पर तलवार थामे बीजेपी विधायकों के साथ जुलूस निकाल रहा है.

एक अन्य ट्वीट में तेजस्वी ने लिखा है कि बिहार के ढोंगी व पाखण्डी मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के दंगाई पुत्र पर दिखावटी वारंट निकाल रखा है.लेकिन वह पटना में सीएम आवास के बगल में ही बीजेपी विधायकों की मौजूदगी में तलवार थामे फेसबुक लाइव कर रहा था.

First published: 26 March 2018, 12:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी