Home » इंडिया » Bharat band: Police Chowki has been set ablaze by protesters, rajnath said for maintain peace and not incite violence
 

भारत बंद: प्रदर्शनकारियों ने पुलिस चौकी की आग के हवाले, गृह मंत्री ने की शांति की अपील

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2018, 13:20 IST

सोमवार को कई दलित संगठनों द्वारा एससी / एसटी अधिनियम 1989 पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ बुलाई गई हड़ताल नेआते हिंसक रूप ले लिया है. 'भारत बंद' का पंजाब, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, झारखंड और अन्य कई हिस्सों में सामान्य जीवन बड़ा असर पड़ा है.

मध्य प्रदेश के मुरैना में हिंसक प्रदर्शन के दौरान एक शख्स की मौत हो गई. इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया है. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि अगर कोई प्रदर्शन करता है तो यह समझ में आता है लेकिन विपक्ष इस मामले में राजनीति क्यों खेल रहा है. कांग्रेस ने सत्ता में रहते हुए बीआर आंबेडकर को भारत रत्न नहीं दिया और अब इस तरह व्यवहार कर रही है जैसे उनकी समर्थक हो. 

देश भर में कई जगहों पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसा और झड़पों की सूचना मिली है. खासकर पंजाब से जहां सरकार ने हिंस के उग्र होने पर सुरक्षा की कड़े प्रबंध किये हैं. सरकार ने सीबीएसई कक्षा 10 और कक्षा 12 की परीक्षाएं स्थगित की हैं.

 

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह का कहना है कि हमने सर्वोच्च न्यायालय में समीक्षा याचिका दायर की है. मैं सभी राजनीतिक दलों और समूहों से शांति बनाए रखने और हिंसा उत्तेजित नहीं करने के लिए अपील करता हूं. अमरिंदर सिंह सरकार ने बस सेवाओं और मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद करने का आदेश दिया है. इस बीच केंद्र सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष एक समीक्षा याचिका दायर कर दी है. जिसमें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के कथित उत्पीड़न मामलों में तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाने के आदेश को चुनौती दी है. 

 

मीडिया रिपोर्ट में यूपी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी अरविंद कुमार ने सभी जिलों के डीएम और एसपी को आदेश जारी कर दिए हैं, ताकि हिंसा और आगजनी में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके.

प्रदर्शनकारियों ने उत्तर प्रदेश के शोभापुर पुलिस चौकी को आग लगा दी जबकि सहारनपुर के बेहाट इलाके में एक पुलिस कार को तोड़ दिया गया.

ये भी पढ़ें : भारत बंद: दलित आंदोलन हुआ हिंसक, सरकार ने दायर की सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका

First published: 2 April 2018, 13:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी