Home » इंडिया » Bhim Army Chief Chandrashekhar Ravan released from Saharanpur Jail Yogi Government Caste violence
 

भीम आर्मी के चंद्रशेखर रावण ने जेल से रिहा होते ही कहा- 2019 में BJP को उखाड़ फेंकेंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 September 2018, 9:00 IST

भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर रावण को आधी रात को जेल से छोड़ दिया गया है. रावण ने योगी सरकार के खिलाफ सहारनपुर में मोर्चा खोला था. चंद्रशेखर रावण, सहारनपुर में 2017 में हुई जातीय हिंसा का मुख्य आरोपी था. रावण को एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत जेल भेजा गया था. रावण पिछले लगभग 16 महीने से जेल में था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रावण को गुरुवार रात करीब 2 बजकर 24 मिनट पर जेल से रिहा किया गया. उनकी रिहाई के दौरान बड़ी संख्या में उनके समर्थक जेल के बाहर मौजूत थे. इसकी वजह से जेल के चारों तरफ कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी.

रावण ने जेल से बाहर आते ही यूपी सरकार पर जमकर हमला बोला. उसने कहा कि अभी तो लड़ाई शुरू हुई है. रावण ने ऐलान किया कि अब योगी सरकार से सीधे लड़ाई लड़ी जाएगी. रावण ने कहा, "मैं अपने लोगों से 2019 में बीजेपी को सत्‍ता से उखाड़ फेंकने के लिए कहूंगा. सरकार सुप्रीम कोर्ट के आदेश से डर गई थी, इसलिए मेरी रिहाई के आदेश जल्‍दी देकर वह खुद को बचा रही है."

 

बता दें कि चंद्रशेखर के जेल में बंद रहने की अवधि 1 नवंबर 2018 तक थी. प्रमुख गृह सचिव अरविंद कुमार ने बताया कि चंद्रशेखर को रिहा करने का आदेश सहारनपुर के जिलाधिकारी को गुरुवार को ही भेज दिया गया था. रिहाई का फैसला उनकी मां के प्रार्थना पत्र पर लिया गया है.

पढ़ें- दिल्ली युनिवर्सिटी के छात्रसंघ चुनाव में ABVP का बजा डंका, NSUI को मिली मात

चंद्रशेखर के साथ बंद दो अन्य आरोपियों सोनू और शिवकुमार को भी रिहा करने का निर्णय किया गया है. रावण को मई 2017 में सहारनपुर के शब्बीरपुर में जातीय हिंसा फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. उन्हें 8 जून 2017 को हिमाचल प्रदेश से गिरफ्तार किया था.

First published: 14 September 2018, 8:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी