Home » इंडिया » Bhima Koregaon Case: Pune court granted 90 day extension to police to file chargesheet
 

भीमा कोरेगांव हिंसा: पुणे पुलिस को चार्जशीट दाखिल करने के लिए मिला 90 दिनों का अतिरिक्त समय

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 September 2018, 13:29 IST
(file photo)

भीमा कोरेगांव केस मामले में पुणे पुलिस को बड़ी राहत देते हुए पुणे सेशन्स कोर्ट ने मामले में गिरफ्तार किए गए पांच आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर करने के लिए पुलिस को 90 दिन का अतिरिक्त समय दिया है. इस मामले में पुलिस ने 6 जून को सुरेंद्र गाडलिंग, शोमा सेन, महेश राउत, सुधीर धवले और रोना विल्सन को गिरफ्तार किया था.

दरअसल, कुछ टेलीविजन न्यूज चैनलों ने सुझाव दिया कि इनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या के लिए कथित साजिश के सिलसिले में गिरफ्तारी की गई है. सर्च वारंट और गवाह दस्तावेज दिखाते हैं कि इन छापों को 1 जनवरी को पुणे के निकट भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा की जांच से जोड़ा गया है.

पढ़ें- नक्सल लिंक मामले में ऐक्टिविस्ट्स की गिरफ्तारी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

गिरफ्तार किये गए इन सभी कार्यकर्ताओं के पास मानवाधिकार कार्यों में दशकों का अनुभव है. इन सभी पर नक्सली लिंक के आरोप लगाए गए हैं. पुणे पुलिस ने इन पांचों आरोपियों को माओवादियों के साथ निकट संबंध होने के आरोप में गैरकानूनी गतिविधियां ऐक्ट के तहत गिरफ्तार किया था. इस मामले में जनवरी में एक एफआईआर दर्ज की गई थी और मार्च में कुछ और धाराएं जोड़ी गई थीं.

पढ़ें- भीमा कोरेगांव मामले में गिरफ्तार एक्टिविस्ट्स आखिर हैं कौन ?

पुलिस को इनमें से एक आरोपी के घर से पत्र मिला था. इस पत्र में राजीव गांधी की हत्या जैसी प्लानिंग का कथित जिक्र पाया गया था. पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने की बात भी कही गई थी. पत्र मिलने के बाद ही देशभर के कई शहरों मुंबई, रांची, हैदराबाद, फरीदाबाद, दिल्ली और ठाणे में पुणे पुलिस ने छापेमारी की थी.

First published: 2 September 2018, 13:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी