Home » इंडिया » Bhima koregaon violence: activist Varavara Rao daughter says, Policemen referred to my caste, asked why no sindoor
 

भीमा कोरेगांव हिंसा: गिरफ्तार लोगों के रिश्तेदारों से पुलिस के सवाल- 'आप सिंदूर क्यों नहीं लगाती'

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 August 2018, 13:13 IST

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में हुई पांच गिरफ्तारी के बाद देश में राजनीतिक माहौल गर्म गया है. फिलहाल मामले में राजनीतिक सरगर्मी तेज है. कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी पार्टियां केंद्र की मोदी सरकार और बीजेपी पर हमला बोल रही हैं. इस बीच कुछ नये खुलासे सामने आए हैं.

भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच में जुटी पुलिस ने गिरफ्तार किए गए पांचों लोगों के रिश्तेदारों को भी नहीं छोड़ा है. पुलिस ने गिरफ्तार किए गए लोगों के रिश्तेदारों के घर पर भी छापेमारी की. इसमें गिरफ्तार और नजरबंद किए गए वरवरा राव की बेटी के पवन के घर भी पुलिस ने छापा डाला. इस दौरान पुलिस ने वरवरा राव की बेटी और दामाद से कुछ बचकाने वाले सवाल किए.

मीडिया खबरों के अनुसार, गिरफ्तार और नजरबंद किए गए वरवरा राव के दामाद के सत्यनारायण ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कई चौकाने वाले खुलासे किए हैं. के सत्यनारायण ने बताया है कि छापे के दौरान पुलिस ने उनके परिवार से कई ऐसे सवाल पूछे जो बचकाने, चि‍ढ़ाने वाले और बेवकूफाना किस्म के थे. वरवरा राव के दामाद के सत्यनारायण हैदराबाद के इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी (EFLU) में कल्चरल स्टडीज विभाग के एचओडी हैं.

file photo

मीडिया खबरों के अनुसार, के सत्यनारायण ने बताया कि पुलिस ने 28 अगस्त को EFLU कैंपस में स्थि‍त उनके घर की तलाशी ली. पुलिस की तलाशी बेहद तनाव वाली और अपमानजनक थी. पुलिस ने छापे के दौरान उनकी पत्नी और वरवरा राव की बेटी के पवन से सवाल करते हुए पूछा कि आपके पति दलित हैं, इसलिए वह किसी परंपरा का पालन नहीं करते हैं, लेकिन आप तो ब्रह्माण है, तो आप गहने क्यों नहीं पहनती हैं, आप सिंदूर क्यों नहीं लगाती हैं? इसके साथ ही के पवन से पूछा गया कि वह एक पारंपरिक पत्नी जैसे कपड़े क्यों नहीं पहनती हैं, क्या बेटी को भी बाप के जैसा ही होना चाहिए?

file photo

उन्होंने आगे कहा कि पुणे पुलिस और तेलंगाना स्पेशल इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारियों ने उनके घर की सुबह 8.30 बजे से लेकर शाम 5.30 बजे तक तलाशी ली. इस दौरान जब पुलिस को कुछ नहीं मिला तो वे किताबों की आलमारी और बाकी जगह तलाशी लेने लगे. शुरुआत में पुलिस ने कहा कि वो वे वरवरा राव की तलाश कर रहे हैं, लेकिन बाद में पुलिस ने कहा कि वो नक्सलियों से लिंक खोज रहे हैं. आखिर में पुलिस ने उनसे घर में रखी किताबों को लेकर सवाल पूछना शुरू कर दिया.

के सत्यनारायण ने बताया कि पुलिस ने उनसे पूछा कि आप इतनी सारी किताबें क्यों खरीदते हैं आप इतनी किताबें क्यों पढ़ते हैं? आपके घर में इतनी सारी किताबें क्यों है. क्या आप इन सबको पढ़ते हैं. आपके पास चीन से प्रकाशित किताबें क्यों हैं. आपके पास गदर के गाने क्यों हैं. आपके घर में आपके घर में ज्योतिबा फुले और अंबेडकर की तस्वीरें हैं लेकिन घर में देवताओं की तस्वीरें नहीं हैं?

file photo

प्रोफेसर सत्यनारायण ने बताया कि इस दौरान अक पुलिस अधिकारी ने इशारा करते हुए कहा कि इन किबातों को पढ़कर और पढ़ाकर छात्रों के भविष्य को बर्बाद कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि वो कई तरह की किताबें पढ़ते हैं. फिर चाहे वो लेफ्ट, राइट या दलित विचारधारा या किसी भी विचारधारा से जुड़ी हुई हो.

आपको बता दें कि पुणे पुलिस ने भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में पांच सामाजिक कार्यकर्ताओं गौतम नवलखा, वरवर राव, सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरा और वरनोन गोंजाल्विस को गिरफ्तार किया गया था. सुप्रीम कोर्ट ने इन्हें नजरबंद रखने का आदेश दिया है. इस दौरान पुलिस ने गिरफ्तार किए गए वरवरा राव की बेटी के पवन और दामाद के हैदराबाद स्थिति घर पर छापा मारा था.

के सत्यनारायण हैदराबाद के इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी (EFLU) में कल्चरल स्टडीज विभाग के एचओडी हैं. के सत्यनारायण के घर में पुलिस के छापे के विरोध में इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी (EFLU) के छात्रों ने कैंपस में प्रदर्शन किया है. वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस सहित विपक्षी पार्टियाों ने केंद्र सरकार पर हमला शुरू कर दिया है. कांग्रेस ने ‘वेलकम न्यू इंडिया’का नारा देकर मोदी सरकार पर तंज कसा है.

ये भी पढ़ें-  सुप्रीम कोर्ट का आदेश: नक्सल कनेक्शन मामले में गिरफ्तार एक्टिविस्ट्स को घर में ही रखें नजरबंद

First published: 30 August 2018, 13:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी