Home » इंडिया » Bhima koregaon violence: Sambhaji Bhide and Milind Ekbote planned the violence
 

भीमा कोरेगांव हिंसा: योजना बनाकर संभाजी और मिलिंद ने दिया था घटना को अंजाम!

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2018, 11:16 IST
(File Photo)

भीमा कोरेगांव हिंसा में एक नया खुलासा हुआ है. जनवरी में महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव हिंसा को एक योजना के तहत अंजाम दिया गया था. इस बात का दावा पुणे के डिप्टी मेयर की अगुवाई में बनी कमेटी ने किया. रिपोर्ट की मानें तो इस योजना को दक्षिणपंथी कार्यकर्ता संभाजी भिड़े और मिलिंद एकबोटे ने मुख्य रूप से बनाया था.

गौरतलब है कि इस मामले में हुई पांच गिरफ्तारियों से मामला सियासी गलियारों की हलचाल भी बन गया था. इस मामले को लेकर एक जांच समिति का गठन किया था. इस समिति की अगुवाई डिप्टी-मेयर सिद्धार्थ ढेंडे ने की. मंगलवार को इस समिति ने अपनी रिपोर्ट मामले की जांच कर रही पुणे पुलिस को सौंप दी.

महाराष्ट्र सरकार ने इस मामले में जांच के लिए एक दो सदस्यीय न्यायिक आयोग का भी गठन किया है. इसके अलावा कई स्वतंत्रा कमेटियां भी इस मामले कली जांच में लगी हुई हैं. इसी तरह की एक कमेटी को सिद्धार्थ ढेंडे की देखरेख में बनाया गया था.

भीमा कोरेगांव हिंसा: गिरफ्तार लोगों के रिश्तेदारों से पुलिस के सवाल- 'आप सिंदूर क्यों नहीं लगाती'

 

इस रिपोर्ट में हुए खुलासे के बारे में डिप्टी-मेयर सिद्धार्थ ढेंडे ने कहा, ''हमारी समिति के सदस्यों ने उन जगहों का दौरा किया है जहां हिंसा हुई. घटनास्थल के दौरों के साथ हमने ग्रामीणों एवं पुलिसकर्मियों के साक्षात्कार भी किए. स्वतंत्र जांच के बाद हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि यह हिंसा पहले से योजना बनाकर की गई हिंसा थी. दोषियों ने घटनास्थल पर पहले ही सारे इंतजाम कर रखे थे, वहां पहले से डंडे और पत्थर इकट्ठा किए गए थे.''

इस रिपोर्ट में ये बताया गया है कि भीमा कोरेगांव की हिंसा को पूर्व योजना के तहत अंजाम दिया गया है. और इस हिंसा के मुख्य साजिशकर्ता संभाजी और मिलिंद हैं. सिद्धार्थ ढेंडे ने कहा, ‘‘संभाजी और मिलिंद प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से हिंसा में शामिल थे. उनके साथ कुछ पुलिसकर्मी भी थे जिन्होंने समय रहते कार्रवाई नहीं की.’’

 

First published: 12 September 2018, 11:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी