Home » इंडिया » Bihar CM Nitish Kumar's boycott in Muzaffarpur
 

CM नीतीश कुमार का मुजफ्फरपुर में जमकर हुआ विरोध, लगे 'नीतीश मुर्दाबाद' के नारे

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 June 2019, 13:40 IST

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुजफ्फरपुर दौरे का जमकर विरोध हुआ है. अस्पतालों में 100 से ज्यादा बच्चों की मौत के बाद स्थानीय लोगों में गुस्सा है. इस दौरान लोगों ने 'नीतीश मुर्दाबाद' और नीतीश वापस जाओ' के नारे भी लगाए. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार 400 से ज्यादा बच्चे अभी भी विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मंगलवार को मुज़फ़्फ़रपुर के श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) की यात्रा के दौरान कड़ा विरोध हुआ. इस अस्पताल में एईएस से कम से कम 89 बच्चों की मौत हो चुकी है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार SKMCH के चिकित्सा अधीक्षक एसके शाही ने घोषणा की कि स्थिति पर अपडेट के लिए एक बुलेटिन दैनिक आज दोपहर 3 बजे जारी किया जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान चिकित्सा उपचार प्रदान किए जाने से मुख्यमंत्री संतुष्ट हैं. सीएम ने मरीजों और उनके रिश्तेदारों से मुलाकात की.  मुख्यमंत्री ने पहले प्रकोप में दम तोड़ने वाले प्रत्येक बच्चे के लिए 4 लाख रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की थी. 


राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने बिहार के मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत के मामले में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और बिहार सरकार को नोटिस जारी किया है. स्थानीय लोगों ने श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के बाहर धरना दिया. बिहार के सीएम नीतीश कुमार अस्पताल में मौजूद हैं. अब तक एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के कारण मौत का आंकड़ा 108 तक पहुंच चुका है.  इससे पहले मरीजों के रिश्तेदारों ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से डॉक्टरों और नर्सों की सुविधाओं की कमी और प्रतिक्रिया के बारे में शिकायत की थी.

 प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) संजय कुमार के अनुसार इस बीमारी से मुजफ्फरपुर, वैशाली, चंपारण सहित 12 जिलों में 222 ब्लॉकों को प्रभावित हुए हैं. एईएस केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है, जो अधिकतर बच्चों और युवा वयस्कों में बुखार के साथ शुरू होता है, नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के अधिकारियों का कहना है कि 1995 से मुजफ्फरपुर में एईएस का प्रकोप जारी है. 
 
First published: 18 June 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी