Home » इंडिया » Bihar Toppers scam: Principal of Vishun Rai college Baccha Rai surrenders
 

बिहार टॉपर्स कांड: मुख्य अभियुक्त बच्चा राय गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2016, 16:08 IST

बिहार के चर्चित टॉपर कांड के मुख्य अभियुक्त बच्चा राय को आखिरकार पुलिस ने दबोच लिया. मामले में सवाल उठने के बाद से वैशाली के विशुन राय कॉलेज का प्रिंसिपल बच्चा राय फरार था.

मामले की जांच कर रही एसआईटी ने इससे पहले विशुन राय कॉलेज को सील कर दिया था. बच्चा की तलाश में कई जगह छापेमारी की गई. पुलिस ने उसे वैशाली से ही गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि वह खुद ही आत्मसर्मपण करने आया था.

बिहार पुलिस बच्चा राय की शिद्दत से तलाश कर रही थी. टॉपर्स विवाद में पुलिस ने पटना कोतवाली में केस दर्ज किया था, जिसमें चार छात्रों के अलावा बच्चा राय का नाम भी शामिल था.

खुद को बताया बेकसूर

गिरफ्तार किए जाने के बाद टॉपर कांड के मुख्य आरोपी अमित सिंह उर्फ बच्चा राय ने कहा कि वो बेकसूर है. साथ ही उसने कहा है कि बिहार स्कूल एक्जामिनेशन बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह का इस मामले से कोई संबंध नहीं है.

पढ़ें: बिहार टॉपर्स विवाद: विशुन राय कॉलेज सील

बताया जा रहा है कि बच्चा राय के कारनामों से वैशाली के लोग तंग आ चुके थे. इलाके के लोगों के मुताबिक बच्चा राय छात्रों को टॉप करवाने के लिए अनाप-शनाप रकम वसूलता था. वह इसके लिए 1 लाख से 2 लाख रुपये तक लेता था.

'आरजेडी से संबंध नहीं'

आरजेडी विधायक सुबोध राय का कहना है कि कई बार बच्चा राय बच्चों को मार्कशीट और सर्टिफिकेट नहीं देता था और इसके एवज में खूब बड़ी रकम वसूलता था. अगर कोई छात्र किसी की पैरवी पर आता, तो भी बच्चा राय उससे एक्स्ट्रा पैसे चार्ज करता था.

आरेजेडी विधायक ने इसके साथ ही उन दावों को खारिज किया, जिसमें कहा गया कि बच्चा राय पूर्व में आरजेडी का नेता रह चुका है. उन्होंने कहा, "उसका आरजेडी से कोई संबंध नहीं रहा है. ना ही आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव से ही कोई लिंक है."

पढ़ें: टॉपर्स विवाद: बिहार बोर्ड के अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह का इस्तीफा

बच्चा की बेटी साइंस टॉपर

बच्चा राय की बेटी शालिनी राय के खिलाफ भी केस दर्ज हुआ था, लेकिन अब तक उसका कोई पता नहीं चल रहा है. दरअसल टॉपर्स का विवाद सामने आने के दस दिन के बाद खुलासा हुआ कि साइंस में फर्स्ट टॉपर शालिनी है, सौरभ श्रेष्ठ नहीं.

दरअसल बोर्ड के टॉपर्स की लिस्ट में शालिनी का नाम नहीं है, लेकिन शिक्षा विभाग की ओर से पटना कोतवाली में जो एफआईआर दर्ज कराई गई है, उसमें टॉपर के नाम की जगह पर शालिनी राय का नाम दर्ज है. 

सौरभ श्रेष्ठ का नाम साइंस के सेकंड टॉपर के तौर पर दर्ज है. वहीं राहुल का नाम फोर्थ टॉपर के रूप में लिखा है. विशुन राय कॉलेज के प्रिंसिपल अमित सिंह उर्फ बच्चा की बेटी शालिनी राय ने इंटमीडिएट साइंस की परीक्षा में टॉप किया था.

नाम सामने आने पर हंगामा खड़ा होने से बचाने के लिए उसके नाम को छुपा दिया गया. शालिनी राय को 2014 में मैट्रिक की परीक्षा में भी टॉप किया था. उस वक्त भी रिजल्ट पर सवाल उठे थे.

लालकेश्वर सिंह फरार

बिहार में इंटरमीडिएट के टॉपर्स का विवाद एक बड़ा मुद्दा बन चुका है. एक निजी चैनल की रिपोर्ट में दिखाया गया था कि टॉपर करने वाले कुछ स्टूडेंट्स से जब विषय से जुड़े आसान सवाल पूछे गए, तो वो उसका भी जवाब नहीं दे सके.

इस मामले में सवाल उठने के बाद बिहार स्कूल एक्जामिनेशन बोर्ड के अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह और सचिव हरिहर नाथ झा ने इस्तीफा दे दिया था. फरार चल रहे लालकेश्वर प्रसाद सिंह पर भी अब गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है.

First published: 11 June 2016, 16:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी