Home » इंडिया » Biplav deb suggests people to forget the communist empire foget stalin and lenin
 

बोले बिप्लब देब: स्टालिन-लेनिन को भूलकर अपने राजा-महाराजाओं का करें सम्मान

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2018, 10:18 IST

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव देव अगरतला एयरपोर्ट का नाम बीर बिक्रम किशोर माणिक्य के नाम पर रखे जाने के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे. बिप्लव देब ने त्रिपुरा राजशाही के अंतिम शासक बीर बिक्रम किशोर माणिक्य के नाम पर रखे जाने के लिए पीएम को धन्यवाद किया. उन्होंने कहा , ‘‘माणिक्य शासक लोकतंत्र पसंद करने वाले राजा थे. त्रिपुरा में रूस के जार की तरह दमनकारी शासन नहीं था.’’

ये भी पढ़ें- 2019 में BJP जीती तो 'हिन्दू पाकिस्तान' बन जायेगा देश- शशि थरूर

कार्यक्रम में लोगों को सम्बोधित करते हुए बिप्लव देब ने अपील की कि राज्य के 'मूल' निवासियों को कम्युनिस्टों को भूल जाना चाहिए. उन्होंने कहा, ''सीपीआईएम की कम्युनिस्ट विरासत को भूल जाएं और ‘लोकतंत्र पसंद करने वाले शासकों’ को गले लगाएं ‘जिन्होंने सबके कल्याण के लिए काम किया है.’

अपनी बात को जारी रखते हुए बिप्लव देव ने मंच से कार्यक्रम में मौजूद लोगों से पूछा, ''प्रयास किया गया कि लोग हमारे राजाओं को भूल जाएं और स्टालिन तथा लेनिन को याद करें. कौन जानता है कि वे कौन हैं? क्या कोई मूल निवासी उनके बारे में जानता है? उनके बारे में जानकर क्या होगा?’’

उन्होंने कहा, ‘‘माणिक्य शासक लोकतंत्र पसंद करने वाले राजा थे. त्रिपुरा में रूस के जार की तरह दमनकारी शासन नहीं था.’’ साथ ही देब ने कहा कि लोगों को कम्युनिस्टों को भूलकर अपने घरों में महाराजा बीर बिक्रम की तस्वीर लगानी चाहिए. और लोगों को ये जानना चाहिए कि वह आधुनिक त्रिपुरा के वास्तुकार थे.

First published: 12 July 2018, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी