Home » इंडिया » BIS CARE Mobile App will know you whether the goods are real or fake
 

ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी, मोबाइल में बस एक क्लिक से पता चल जाएगा सामान असली है या नकली

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2020, 13:54 IST

BIS CARE App: ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी है. केंद्र की मोदी सरकार एक ऐसा मोबाइल ऐप लेकर आई है, जिससे पलक झपकते ही पता चल जाएगा कि सामान असली है या नकली. एक दिन पहले ही उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने इस मोबाइल ऐप को लॉन्च किया है. इस मोबाइल ऐप का नाम है BIS-Care. 

इस ऐप के जरिए अब उपभोक्ता, आईएसआई और हॉलमार्क गुणवत्ता प्रमाणित उत्पादों की प्रामाणिकता की जांच कर सकते हैं. इस ऐप को किसी भी एंडॉयड फोन में डाउनलोड कर ऑपरेट किया जा सकता है. इस बाबत उन्होंने लिखा, "विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए भारतीय मानक ब्यूरो के मोबाइल ऐप BISCARE और eBIS पोर्टल http://MANAKONLINE.IN का लोकार्पण किया. अब मोबाइल ऐप के जरिए BIS और इसके द्वारा तैयार मानकों के संबंध में पूरी जानकारी हासिल की जा सकती है."

इसके आगे उन्होंने बताया, "eBIS पोर्टल http://MANAKONLINE.IN पर मानकीकरण की प्रक्रिया, शुद्धता जांच की विधि के साथ ऑनलाइन प्रशिक्षण के संबंध में पूरी जानकारी दी गई है. साथ ही @IndianStandards के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों और पंजीकृत जांच केन्द्रों व प्रयोगशालाओं की विस्तृत जानकारी भी उपलब्ध है."

उन्होंने बताया, "आज से #उपभोक्ता_संरक्षण_कानून के तहत ई-कॉमर्स से जुड़े सभी प्रावधान और नियम कानून प्रभावी हो गये हैं. अब ऑनलाइन शॉपिंग या ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से जुड़ी गतिविधियां उपभोक्ता संरक्षण कानून के दायरे में आ गई हैं और इसके प्रावधानों के तहत ही इनपर कार्रवाई होगी."

बता दें कि ये ऐप ग्राहकों को असली और नकली सामान में फर्क बताएगा. यदि आप बाजार से कोई कूकर या अन्य सामान ख़रीदते हैं तो उसपर आईएसआई का निशान लगा रहता है. यदि इसके बाद भी आपको शंका है कि कूकर उस ब्रांड का नहीं लग रहा, जिसका उसपर नाम लिखा है तो इसे आप BIS CARE ऐप पर आईएसआई निशान का नम्बर लिख कर ब्रांड और उस कम्पनी की जानकारी देख सकते हैं.

 Coronavirus: राजधानी दिल्ली के लिए खुशखबरी, पिछले 24 घंटों में कोरोना के मामलों में बड़ी गिरावट

 

First published: 28 July 2020, 13:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी