Home » इंडिया » BJP banks on Modi, 220 million beneficiaries of flagship schemes to increase its voter base
 

ये 22 करोड़ वोट BJP को मिले तो मोदी को सत्ता में आने से कोई नहीं रोक पायेगा !

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 March 2019, 13:30 IST

2014 से अलग इस बार बीजेपी ने नारा दिया है ''मोदी है तो मुमकिन है.'' पार्टी की पहली चुनावी रणनीति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता और मतदाताओं के साथ उनकी विश्वसनीयता को दर्शाना है. जबकि बीजपी की दूसरी सबसे बड़ी रणनीति उन 22 करोड़ (220 मिलियन) लोगों तक पहुंचना है जो कमजोर तबके से हैं और वर्तमान में सरकार की विभिन्न सरकारी योजनाओं से लाभान्वित हुए हैं. भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के नेताओं का मानना है कि सरकारी कार्यक्रमों के लाभार्थी एनडीए पर एक बार फिर से भरोसा करेंगे.

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता, जो पार्टी की चुनाव रणनीति टीम का हिस्सा है, ने कहा कि “अगर हम केंद्र में भाजपा-एनडीए सरकार के पिछले पांच वर्षों को देखें, तो यह स्पष्ट है कि सरकार ने गरीबों और सामाजिक रूप से कमजोर वर्गों के उत्थान के लिए बहुत काम किया है. सरकार का सबसे पहला काम जन धन कार्यक्रम के माध्यम से गरीबों की बैंक खातों की पहुंच की अनुमति देना था. इसने लाभार्थियों के बैंक खातों में सीधे पैसा स्थानांतरित करके भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने में मदद की है.

35 करोड़ जनधन खातों के लाभार्थी

बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि जन-धन कार्यक्रम के तहत पिछले पांच वर्षों में 35 करोड़ लगभग (348.7 मिलियन) बैंक खाते खोले गए हैं. जिनमें से लगभग 19 करोड़ (190 मिलियन) ग्रामीण भारत में हैं, शेष 13 करोड़ (130 मिलियन) शहरी भारत में हैं. एक राज्य में जन-धन खातों की सबसे अधिक संख्या, लगभग 5 करोड़ (50 मिलियन) उत्तर प्रदेश में खोली गई है, जबकि बिहार में कुल संख्या 3 करोड़ 40 लाख (34 मिलियन) से अधिक है. एनडीए के लिए ये दोनों राज्य महत्वपूर्ण हैं क्योंकि यहां कुल 120 लोकसभा सीटें हैं, जिनमें से 2014 के आम चुनावों में एनडीए ने 104 सीटें जीती थीं.

2 करोड़ 50 लाख बिजली कनेक्शन

बिजली कनेक्शन देने के लिए सौभाग्‍य योजना के तहत अब तक 25.4 मिलियन घरों में से 2 करोड़ 50 लाख (25 मिलियन) घरों को विद्युतीकृत किया गया है. इसी प्रकार प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत 8 करोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन देने की सरकारी योजना अब तक 7 करोड़ घरों तक पहुंच चुकी है.

2 करोड़ 50 लाख बिजली कनेक्शन

जबकि बिजली कनेक्शन देने के लिए सौभाग्‍य योजना के तहत अब तक 25.4 मिलियन घरों में से 2 करोड़ 50 लाख (25 मिलियन) घरों को विद्युतीकृत किया गया है. इसी प्रकार प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत 8 करोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन देने की सरकारी योजना अब तक 7 करोड़ घरों तक पहुंच चुकी है.

आयुष्मान भारत 50 करोड़ तक पहुंच

एक और पहल जो एनडीए का मानना था है कि इस चुनाव में जो एक गेम चेंजर हो सकता है, वह है आयुष्मान भारत कार्यक्रम, जिसका उद्देश्य शहरी और ग्रामीण भारत में कम से कम 50 करोड़ (500 मिलियन) लोगों को स्वास्थ्य बीमा प्रदान करना है. पार्टी के नेता यह भी बताते हैं कि हाल ही में घोषित पीएम-किसान योजना, जिसमें 5 हजार से कम जमीन वाले किसानों को सालाना 6,000 देने की योजना है, विपक्ष के खिलाफ सत्ताधारी पार्टी को फायदा होगा. पूरे भारत में 12 करोड़ (120 मिलियन) किसान हैं, जो इस योजना का लाभ उठा सकते हैं, और 2,000 की पहली किस्त उनमें से कम से कम 2 करोड़ (20 मिलियन) के खातों तक पहुंच चुकी है.

1.5 करोड़ घर

पार्टी का मानना है कि “सरकारी कार्यक्रम की ताकत यह है कि इसके लाभ के लिए जाति, धर्म या क्षेत्र के आधार पर लोगों के बीच अंतर नहीं किया जाता है. यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश है. बीजेपी नेताओं का दावा है कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार की तुलना में एनडीए सरकार का रिकॉर्ड काफी बेहतर है. भाजपा नेता ने कहा “हमने 2022 तक सभी के लिए आवास का वादा किया है और सरकार ने पहले ही गरीबों के लिए 1.5 करोड़ (15 मिलियन) घरों का निर्माण किया है. जबकि पिछले 70 वर्षों में गरीबों के लिए केवल 25 लाख (2.5 मिलियन) घर बनाए गए थे.

एक और पहल जो एनडीए का मानना था है कि इस चुनाव में जो एक गेम चेंजर हो सकता है, वह है आयुष्मान भारत कार्यक्रम, जिसका उद्देश्य शहरी और ग्रामीण भारत में कम से कम 50 करोड़ (500 मिलियन) लोगों को स्वास्थ्य बीमा प्रदान करना है. पार्टी के नेता यह भी बताते हैं कि हाल ही में घोषित पीएम-किसान योजना, जिसमें 5 हजार से कम जमीन वाले किसानों को सालाना 6,000 देने की योजना है, विपक्ष के खिलाफ सत्ताधारी पार्टी को फायदा होगा. पूरे भारत में 12 करोड़ (120 मिलियन) किसान हैं, जो इस योजना का लाभ उठा सकते हैं, और 2,000 की पहली किस्त उनमें से कम से कम 2 करोड़ (20 मिलियन) के खातों तक पहुंच चुकी है.

1.5 करोड़ घर

पार्टी का मानना है कि “सरकारी कार्यक्रम की ताकत यह है कि इसके लाभ के लिए जाति, धर्म या क्षेत्र के आधार पर लोगों के बीच अंतर नहीं किया जाता है. यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश है. बीजेपी नेताओं का दावा है कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार की तुलना में एनडीए सरकार का रिकॉर्ड काफी बेहतर है. भाजपा नेता ने कहा “हमने 2022 तक सभी के लिए आवास का वादा किया है और सरकार ने पहले ही गरीबों के लिए 1.5 करोड़ (15 मिलियन) घरों का निर्माण किया है. जबकि पिछले 70 वर्षों में गरीबों के लिए केवल 25 लाख (2.5 मिलियन) घर बनाए गए थे.

भगोड़े नीरव मोदी की पत्नी के खिलाफ ईडी ने जारी किया गैर जमानती वारंट

First published: 16 March 2019, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी