Home » इंडिया » BJP delegation will meet law commission chairman on one nation one election
 

BJP ने 'एक देश, एक चुनाव' को लेकर उठाया बड़ा कदम, विपक्षी पार्टियां कर रही हैं विरोध

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 August 2018, 13:36 IST

जहां एक तरफ देश में एक देश एक चुनाव को लेकर सारी पार्टियों में बहस चल रही है वहीं दूसरी तरफ एक साथ लोकसभा और राज्यों के विधानसभा चुनाव कराए जाने को लेकर भाजपा बड़ा कदम उठाने जा रही है. बीजेपी के नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल आज लॉ कमीशन के चेयरमैन से मुलाकात करेगा. बीजेपी के इस प्रतिनिधिमंडल में केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, भूपेंद्र यादव और अनिल बलूनी होंगे.

बता दें कि पीएम मोदी देश में लोकसभा और राज्यसभा चुनाव एक साथ कराने के पक्ष में हैं. वहीं सारी विपक्षी पार्टियां इसका विरोध कर रही हैं. इसे लेकर लॉ कमीशन ने सारी पार्टियों से राय मांगी थी. तब ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी, वामदल, आईयूएमएल, एआईएडीएमके, गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने इसका विरोध किया था. टीएमसी का कहना है कि संविधान के बुनियादी ढांचे को बदला नहीं जा सकता. हम एक साथ चुनाव कराने के विचार के खिलाफ हैं.

पढ़ें- NRC पर बोले BJP उपाध्यक्ष ओम माथुर- 2019 में सत्ता मिलने पर पूरे देश में करेंगे लागू

वहीं देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस ने एक साथ चुनाव कराए जाने के मुद्दे पर आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है. हालांकि इस मुद्दे पर समाजवादी पार्टी ने जरूर कहा है कि बीजेपी अगर एक साथ चुनाव चाहती है तो 2019 लोकसभा चुनाव से ही इसे लागू करे. वहीं चुनाव आयोग का कहना है कि वह एक साथ चुनाव करवाने में सक्षम है, बशर्ते कानूनी रूपरेखा और लॉजिटिक्स दुरुस्त हो.

पढ़ें- सोमनाथ चटर्जी हिंदू महासभा की विरासत छोड़ बने थे वामपंथ के पुरोधा

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार एक साथ लोकसभा और विधानसभा चुनाव पर विचार करने की बात कर चुके हैं. उन्होंने कई मौकों पर कहा है कि विपक्षी दल इसपर विचार करे. मोदी सरकार का मानना है कि एक साथ चुनाव कराए जाने से खर्च, समय और मैन पावर बचेगा. वहीं विपक्षी दलों का मानना है कि सरकार के फैसले से राज्यों को नुकसान होगा. इससे एक तरह की सरकार को बल मिलेगा जो लोकतंत्र के लिए खतरनाक है.

First published: 13 August 2018, 13:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी