Home » इंडिया » BJP government to demolish Neerav Modi Bunglow, ask engineers for explosives
 

लोकसभा चुनाव के पहले PM मोदी का बड़ा दांव, नीरव मोदी के बंगले पर विस्फोट कराएगी BJP सरकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 February 2019, 14:38 IST

महाराष्ट्र सरकार अब भगोड़े नीरव मोदी के बंगले को गिराने की तैयारी में हैं. शुक्रवार को बंबई उच्च न्यायलय को महाराष्ट्र सरकार ने बताया है कि हीरा व्यापारी नीरव मोदी के अवैध बंगले को गिराने के लिए सरकार ने प्रक्रिया शुरू कर दी है. बता दें, बंबई उच्च न्यायालय ने रायगढ़ के अलीबाग में बने नीरव मोदी के एक अवैध बंगले के खिलाफ कार्यवाई करने के लिए सरकार को आदेश जारी किया था.

बता दें, ये इलाका मुंबई से जुड़ा हुआ है जो कि पर्यटन के लिहाज से काफी लोकप्रिय है. कील पी पी काकड़े ने सरकार की तरफ से अदालत में बताया कि नीरव मोदी के बंगले के खिलाफ जिला कलेक्टर नेकार्यवाई शुरू कर दी है. बता दें, इस मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश एन एच पाटिल के नेतृत्व वाली एक खंड पीठ कर रही थी. सरकार की तरह से अदालत में वकील पाटिल ने कहा, ''नीरव मोदी का बंगला गिराने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है लेकिन एक बड़ा बंगला होने की वजह से इसके बारे में इंजीनियरों से सलाह ली जा रही है. बंगले को गिराने का काम नियंत्रित विस्फोटों के जरिए अंजाम दिया जाएगा.''


बजट से पहले बेरोजगारी रिपोर्ट से बैकफुट पर मोदी सरकार, बचाव में उतारे ये बड़े अधिकारी

गौरतलब है कि इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने कहा था कि उसने नीरव मोदी के इस अवैध बंगले को कुर्क कर लिया है, इसलिए इस मामले में उसे भी सुना जाए. बता दें, निदेशालय ने ही मोदी सरकार पर धनशोधन का आरोप भी लगाया है. इस मामले में शुक्रवार को हुई सुनवाई में प्रवर्तन निदेशालय की वकील नेहा भीड़े ने कोर्ट में कहा कि केंद्रीय एजेंसी ने यह संपत्ति कलेक्टर को सौंप दी है. साथ ही उन्होंने कोर्ट से कुछ समय की मोहलत मांगी है क्योंकि अभी वहां से कुछ चीजों को निकाला जाना बाकी है.

Budget 2019: किसानों को 6000 की सौगात का उड़ा मजाक, लोग बोले- इससे अच्छा तो बीड़ी-तम्बाकू दे देते

इस दलील पर कोर्ट ने जवाब देते हुए कहा कि इस मामले में कोर्ट हस्तक्षेप नहीं कर सकती क्योंकि इस बंगले को गिराने की प्रक्रिया उसके आदेश के बाद ही शुरू की गई है. इस मामले में सुनवाई कर रहे मुख्य न्यायाधीश पाटिल ने प्रवर्तन निदेशालय की वकील से कहा, ''आप कलेक्टर से संपर्क कर सकते हैं और इसका हल निकाल सकते हैं.''

First published: 2 February 2019, 14:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी