Home » इंडिया » BJP leader S ve shekhar shared a post on facebook abused female reported who asked apology from TN governor
 

बीजेपी नेता का शर्मनाक बयान- बड़े लोगों के साथ सोए बिना रिपोर्टर नहीं बन सकती महिला पत्रकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 April 2018, 11:02 IST

देश में अभी हाल की कठुआ और उन्नाव गैंगरेप जैसी घटनाओं से उबर नहीं पाया है. महिला सम्मान और अस्तिमा के लिए पूरे देश में कई जगह प्रोटेस्ट भी हुए, गोष्ठियां आयोजित की गयी. लेकिन ये सब शायद समाज के एक विकृत तबके की मानसिकता को बदलने के लिए काफी नहीं है.

महिलाओं के प्रति घटिया मानसिकता हमेशा ही कुछ बड़े पदों पर आसीन लोगों की तरफ से भी उजागर हो जाती है. हाल ही में चेन्नई में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक महिला पत्रकार के गाल छूने की वजह से उपजे विवाद के बाद तमिलनाडु के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित ने माफी मांगी थी.

लेकिन इसके एक दिन बाद वरिष्ठ बीजेपी नेता एस वी शेखर ने गुरुवार को एक विवादास्पद फेसबुक पोस्ट किया. इसमें उन्होंने महिला पत्रकारों को लेकर अभद्र टिप्पणियां कीं. शेखर के फेसबुक पोस्ट का शीर्षक था, ‘मदुरई यूनिवर्सिटी, गवर्नर ऐंड द वर्जिन चीक्स ऑफ ए गर्ल.’ इस पोस्ट में बीजेपी नेता ने दावा किया कि कोई भी महिला बड़े लोगों के साथ सोए बिना न्यूड रीडर या रिपोर्टर नहीं बन सकती.

ये भी पढ़ें- कठुआ-उन्नाव रेप केस: बहुत हुआ नारी पर वार, अबकी बार मोदी सरकार निकला जुमला !

गौरतलब है कि चेन्नई के पत्रकारों ने शेखर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. ये पत्रकार बीजेपी राज्य मुख्यालय के सामने प्रदर्शन करेंगे.

 

बीजेपी नेता ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है, ‘हाल ही में की गई शिकायतों से कड़वी सच्चाई बाहर आ चुकी है. इन (गाली) महिलाओं ने गवर्नर पर सवाल उठाए हैं. मीडिया के लोग तमिलनाडु के तुच्छ, नीच और असभ्य जन हैं. कुछ अपवाद हैं. मैं सिर्फ उनकी इज्जत करता हूं अन्यथा तमिलनाडु की पूरी मीडिया अपराधियों, धूर्तों और ब्लैकमेलर्स के हाथ में है.’

शेखर ने फेसबुक पोस्ट की शुरुआत में इसका क्रेडिट ‘थिरूमलाई एस’ नाम के शख्स को दिया है. शेखर ने द इंडियन एक्सप्रेस से बताया कि थिरूमलाई अमेरिका में एक ‘धुर बीजेपी समर्थक’ है. उन्होंने बताया, ‘अमेरिका जाने के दौरान मेरी उनसे मुलाकात हुई. उन्होंने मुझे बताया कि वह पीएम नरेंद्र मोदी के समर्थक हैं.’

शेखर ने आगे कहा, ‘शेयर करने से पहले मैंने पोस्ट पूरी तरह से नहीं पढ़ी. मैं कभी किसी को गाली नहीं दूंगा. मैं उस पोस्ट को डिलीट करना चाहता था, लेकिन फेसबुक ने ब्लॉक कर दिया है. मैं अगले 24 घंटे तक फेसबुक अकाउंट नहीं खोल सकता.’

गौरतलब है कि ये विवाद तमिलनाडु के राजयपाल बनवारी लाल पुरोहित द्वारा एक महिला पत्रकार के गाल छूने पर हुआ था. इसके बाद उन्होंने पात्र लिख कर माफ़ी भी मांगी थी. राज्यपाल ने लिखा कि महिला पत्रकार उनकी पोती के समान है. राज्यपाल ने यह भी कहा कि वह भी पत्रकारिता के पेशे से 40 सालों तक जुड़े रहे. लेकिन राज्यपाल की माफ़ी के बाद भी बीजेपी नेता को इतना आक्रोश था कि उन्होंने सभी पत्रकारों को तुच्छ और नीच बता दिया साथ ही महिलाओं के लिए अभद्र बातें लिखी.

First published: 20 April 2018, 9:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी