Home » इंडिया » BJP MLA Nitin agrawal distributes liquor bottle with prasad in hardoi temple, naresh agrawal son
 

इस BJP विधायक ने मंदिर में खाने के साथ बांटी शराब की बोतलें, कभी पिता ने शराब को लेकर दिया था ये बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2019, 10:45 IST

व्हिस्की में विष्णु बसें, रम में श्रीराम, जिन में माता जानकी और ठर्रे में हनुमान. सियावर रामचंद्र की जय. उत्तर प्रदेश के बड़े नेता नरेश अग्रवाल ने आज से कई साल पहले ये राज्य सभा में ये बयान दिया था. आज उनके बेटे नितिन अग्रवाल ने अपने पिता का ये सपना भी पूरा कर दिया है. हैरानी की बात है, लेकिन है बिल्कुल सच. ये वाकया हरदोई में एक बीजेपी द्वारा आयोजित सम्मेलन में हुआ है. जहां पर नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल ने श्रवण देवी मंदिर, हरदोई में खाने के पैकेट के बीच शराब की बोतलें रख कर बांटीं.

दरअसल हरदोई में बीजेपी वियधायक ने पासी समुदाय को संबोधित करने के लिए श्रवण देवी मंदिर में सम्मलेन का आयोजन किया था. हद तो तब हुई जब हरदोई से विधायक नितिन अग्रवाल ने मंच से ही सभी प्रधानों से खाने के उन पैकेटों को लोगों में बांटने की अपील की. समाचार एजेंसी एएनआई की खबर के अनुसार खाने के पैकेट में लोगों को खाने के साथ ही दारू की बोतल भी मिली.

हैरानी की बात ये थी कि खाने के ये पैकेट बच्चों में भी बांटे गए थे. इस वाक़ये के सामने आने के बाद हरदोई से ही भाजपा सांसद अंशुल वर्मा ने नाराजगी जताते हुए कहा, ''जिन बच्चों को पेन और कॉपी दी जानी चाहिए, उन्हें शराब की बोतल दी गई है. स्थानीय प्रशासन ने यह कैसे होने दिया? एक्साइज डिपार्टमेंट ने इतने बड़े पैमाने पर शराब कैसे बंटने दी? इसको लेकर भाजपा को सोचना चाहिए.'' इस मामले में कार्यवाई के लिए अंशुल ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है.

गौरतलब है कि हरदोई से विधायक नितिन अग्रवाल यूपी के बड़े नेता नरेश अग्रवाल के बेटे हैं. 2018 में नरेश अग्रवाल ने अपने बेटे नितिन के साथ भाजपा का हाथ थाम लिया था. जबकि इससे पहले वह समाजवादी पार्टी से जुड़े हुए थे और राज्यसभा सांसद भी थे. कहा जाता है कि सपा की तरफ से जया बच्चन को राज्यसभा का टिकट मिलने से नाराज होकर नरेश अग्रवाल ने सपा छोड़ दी थी. वहीं समाजवादी पार्टी से पहले नरेश अग्रवाल मायावती के साथ बसपा में भी रह चुके हैं.

मोदी सरकार ने कांग्रेस से चुराई है आर्थिक आरक्षण की योजना, 8 साल पहले ही हुआ था फैसला !

बता दें कि नरेश अग्रवाल ने एक बार राज्यसभा में बोलते हुए उन्होंने कहा था, ''व्हिस्की में विष्णु बसें, रम में श्रीराम, जिन में माता जानकी और ठर्रे में हनुमान. सियावर रामचंद्र की जय.'' आज इसी वजह से उनके बेटे के मंदिर में शराब बाँटने से उनका ये बयान एक बार फिर से सुर्ख़ियों में आ गया है.

First published: 8 January 2019, 10:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी