Home » इंडिया » bjp question to priyanka vadra shimla house
 

प्रियंका गांधी के शिमला में घर बनाने पर बीजेपी विधायक ने उठाए सवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 June 2016, 11:09 IST
(एजेंसी)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा के शिमला स्थित निर्माणाधीन तीन मंजिला आवास को लेकर बीजेपी ने सवाल उठाए हैं. प्रियंका का यह निर्माधीन घर छराबड़ा स्थित राष्ट्रपति के आधिकारिक ग्रीष्मकालीन आवास रिट्रीट में है.

प्रियंका वाड्रा के निर्माणाधीन आवास को लेकर वहां के बीजेपी विधायक सुरेश भारद्वाज ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को चिट्ठी लिखी है. जिसमें सुरक्षा कारणों से इस निर्माण कार्य को अनुमति नहीं मिलनी चाहिए. भारद्वाज ने पत्र की कॉपी मीडिया को भी दी है.

बीजेपी विधायक की राजनाथ को चिट्ठी

शिमला के विधायक भारद्वाज ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह को लिखे पत्र में मांग की है कि जनहित को ध्यान में रखते हुए प्रियंका गांधी के भवन निर्माण कार्य की अनुमति को तुरंत रद्द किया जाए और निर्माण कार्य पर भी अविलंब रोक लगाई जाए.

विधायक भारद्वाज ने सेवानिवृत्त नेवल अधिकारी कमांडर देविंद्रजीत सिंह का हवाला देते हुए कहा कि 24 अगस्त 2002 में उन्होंने इस वीवीआईपी क्षेत्र में कॉटेज बनाने के लिए 16 बिस्वा जमीन खरीदी, लेकिन उन्हें इस स्थान पर सुरक्षा का हवाला देते हुए निर्माण की इजाजत नहीं दी गई.

इसके बाद नेवी अफसर देविंद्रजीत सिंह ने इस जमीन को बेच दिया था. प्रियंका वाड्रा ने यह प्लॉट 2007 में खरीदा था.

संवेदनशील क्षेत्र में पाबंदी का हवाला

बीजेपी विधायक ने सवाल किया है कि इस अति महत्वपूर्ण रिट्रीट के संवेदनशील क्षेत्र में निर्माण पर जब पाबंदी है, तो रिट्रीट से महज 100 मीटर दूर और कल्याणी हेलीपैड से महज 200 मीटर दूरी होने के बावजूद प्रियंका वाड्रा को किस आधार पर यहां भवन निर्माण की अनुमति दी गई है?

पत्र में यह भी लिखा है कि प्रियंका को 4 हजार वर्ग मीटर जगह खरीदने की अनुमति उन्हें एसपीजी स्टेटस के चलते दी गई है. गौरतलब है कि प्रियंका अपने निर्माणाधीन बंगले की छत पर काली स्लेट लगवा रही हैं. उन्होंने इस मामले में वास्तुकारों से भी चर्चा की है.

निर्माणाधीन जमीन की पावर ऑफ अटॉर्नी कांग्रेस नेता केहर सिंह खाची के नाम है. बंगले का निर्माण कार्य 2008 में शुरू हुआ था.

इस पूरे मामले पर राज्य कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता नरेश चौहान ने कहा कि निर्माण के लिए सभी नियमों और कानूनों का पालन किया गया है और राष्ट्रपति भवन से भी भवन निर्माण की इजाजत ली गई है.

First published: 18 June 2016, 11:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी