Home » इंडिया » BJP to demand Parliament debate on Afzal Guru and nationalism
 

संसद में जेएनयू और राष्ट्रवाद के मुद्दे को जोर शोर से उठाएगी बीजेपी

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 February 2016, 19:48 IST

केंद्र सरकार ने फैसला किया है कि संसद में बजट सत्र के दौरान वह 9 फरवरी को जेएनयू में अफजल गुरु के समर्थन में हुए कार्यक्रम का मुद्दा उठाएगी. इकॉनामिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार बीजेपी सरकार राष्ट्रवाद को लेकर जारी विवाद को लेकर संसद में चर्चा की मांग कर सकती है.

जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की राष्ट्रद्रोह के आरोप में गिरफ्तारी को लेकर कथित तौर पर कहा जा रहा है कि बीजेपी ने इस मसले पर गलत रवैया अपनाया.

सबसे पहले ज़रूरी है जेएनयू कैंपस का अस्तित्व: एबीवीपी नेता

विपक्षी दलों ने पहले ही कहा है कि वह 23 फरवरी से शुरू हो बजट सत्र में जेएनयू मसले को उठाएगी. इसके बाद बीजेपी सांसदों ने आक्रामक रवैया अपनाने की रणनीति बनाई है और स्पीकर को पत्र लिखकर चर्चा कराने की मांग की है. बीजेपी नेता के मुताबिक हमारा मकसद संसद में राष्ट्रवादी बनाम राष्ट्रविरोधी बहस कराना है.

बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा है, 'इस मुद्दे पर लाभ लेने के लिए यह हमारे लिए एक अवसर है. बीजेपी और सरकार राष्ट्र की एकता के मुद्दे पर किसी तरह का समझौता नहीं करेगी.'

जेएनयू विवाद: एबीवीपी के तीन पदाधिकारियों ने कन्हैया के समर्थन में छोड़ा संगठन

बहस के दौरान बीजेपी कन्हैया कुमार पर लगे राष्ट्रद्रोह के आरोप लगाने के फैसले का बचाव करेगी और कांग्रेस द्वारा 'राष्ट्रविरोधी तत्वों' को समर्थन देने पर कांग्रेस को निशाने पर रखेगी.

मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की बैठक में शामिल होने वाले एक बीजेपी नेता कहा कि विपक्ष के द्वारा इस मुद्दे को उठाए जाने से पहले ही हमारे पार्टी के सांसद इस मुद्दे पर आगे बढ़कर इस मसले पर चर्चा करेंगे.

First published: 18 February 2016, 19:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी