Home » इंडिया » Ram Temple will be built with court's order
 

अयोध्या में राम मंदिर और दादरी में बीफ: संस्कृति मंत्री महेश शर्मा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:47 IST

केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने एक बार फिर से विवादित बयान देकर बहस का दरवाजा खोल दिया है. उन्होंने कहा है उनकी सरकार अयोध्या में भव्य राम मंदिर के लिए संकल्पित है. लेकिन अभी यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है इसलिए हम कोर्ट के आदेश का इंतजार करेंगे या फिर इस पर कोई आम सहमति बनने का इंतजार करेंगे. राम मंदिर इस देश की जनता का सपना है और हर व्यक्ति चाहता है कि यह जल्द से जल्द बने. 

शर्मा ने कहा की उनकी पार्टी और सरकार ने भी इस पर अपना मत दे दिया है. हालांकि मामला सुप्रीम कोर्ट में होने की बात पर उन्होंने कहा, 'हम सुप्रीम कोर्ट की सहमति से राम मंदिर बनाने का प्रयास करेंगे. इस वजह से अभी समय लग रहा है."

अपनी बात आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि अयोध्या में एक भव्य रामायण म्यूजियम बन रहा है, इसके अलावा राम वन गमन पथ का निर्माण भी हो रहा है जिसके लिए सरकार ने 170 करोड़ की योजना घोषित की है.

"राम मंदिर इस देश की जनता का सपना है. हमारी सरकार अयोध्या में राम मंदिर के लिए दृढ़ संकल्प है"

महेश शर्मा यहीं नहीं रुके. उन्होंने दादरी हत्याकांड पर भी एक अनावश्यक विवादित बयान दिया. उनके मुताबिक दादरी में अखलाक के घर से बरामद मांस बीफ था. गौरतलब है कि उन्होंने यह बयान ऐसे मौके पर दिया है जब चीफ वेटरनरी अधिकारी ने अपने बयान में साफ कहा है कि अखलाक के घर से बरामद हुआ मांस बकरे का था.

इसके पहले संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने भी राम मंदिर के मुद्दे को हवा दी थी. उन्होंने शीतकालीन सत्र के दौरान मीडिया से बातचीत में कहा था कि सभी देशवासी राम मंदिर चाहते हैं.

महेश शर्मा का यह बयान ऐसे मौके पर आया है जब कुछ ही दिन पहले अयोध्या में वीएचपी ने मंदिर निर्माण के लिए पत्थर इकट्ठा करना शुरू किया है. इसे लेकर संसद में काफी हंगामा भी हुआ था. अयोध्या स्थित कारसेवक पुरम में दो ट्रक पत्थर लाया गया था.

राम मंदिर निर्माण के मकसद से विहिप देशभर से पत्थर इकट्ठा करने का राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू कर चुकी है. वीएचपी के प्रवक्ता शरद शर्मा कहते हैं, 'अयोध्या स्थित कारसेवक पुरम में राजस्थान से दो ट्रक पत्थर लाए गए हैं.' राम जन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास ने इन पत्थरों का शिलापूजन करके स्वागत किया था.

First published: 30 December 2015, 2:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी