Home » इंडिया » BJP worker clean MLA feet and drunk dirty water share on his Facebook as 'charnamrit'
 

Video: BJP सांसद ने कार्यकर्ता से पहले धुलवाए पैर और फिर फेसबुक पर शेयर किया वीडियो

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 September 2018, 10:39 IST
(Facebook)

भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता ने सांसद के चहेता बने रहने के लिए उनके पैर धो कर गंदा पानी पी लिया. मामले झारखंड के गोड्डा का है. एक पुल का शिलान्यास करने पहुंचे भाजपा के सांसद ने कार्यक्रम के बाद पैर धोये तो अन्य कार्यकर्ता ने उस गंदे पानी को पी लिया. इतना ही नहीं कार्यकर्ता पंकज साह ने मंच पर बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे की तारीफ़ में कसीदे पढ़े.

इस मामले में उठे विवाद को लेकर बीजेपी सांसद ने कृष्ण और सुदामा का उदहारण देकर इस घटना को सही बताने की कोशिश की. इतना ही नहीं कार्यकर्ता द्वारा मिले इस 'सम्मान' से खुश निशिकांत ने अपनी फेसबुक पर बाकायदा इस वाकये का जिक्र किया. उन्होंने लिखा, ''आज मैंने अपने आप को बहुत छोटा कायकर्ता समझ रहा हूँ ,भाजपा के महान कार्यकर्ता पवन साह जी ने पुल की ख़ुशी में हज़ारों के सामने पैर धोया व उसको अपने वादे पुल की ख़ुशी में शामिल किया,काश यह मौक़ा मुझे माता पिता के बाद एक दिन मिले, मैं भी कार्यकर्ता का चरणामृत पियूँ.''

गौरतलब है कि सांसद के शिलान्यास करने के बाद मंच से कार्यकर्ता पंकज ने कहा कि इतने महान काम के लिए वो सांसद का पैर धोकर पीना चाहते हैं. हैरत की बात ये है कि इस बात के बाद सांसद निशिकांत दुबे भी गदगद हो गए और पैर आगे बढ़ा दिया. बीजेपी सांसद अपने पैर को ऐसे बेझिझक गर्व से धुलाने लगे, मानो भगवान का पदार्पण हुआ हो और सेवक चरण धो रहा हो.

नेहरू की राह पर PM मोदी, वाराणसी में बच्चों संग केक काट कर मनाएंगे अपना जन्मदिन

कृष्ण सुदामा का उदाहरण देकर दी सफाई
जब मामले को लेकर विवाद बढ़ा, तो बीजेपी सांसद ने सफाई दी, ''अगर कार्यकर्ता अपनी खुशी का इजहार पैर धोकर कर रहा है, तो इसमें क्या गजब हुआ? झारखंड में अतिथि के पैर धोये ही जाते हैं. इसको राजनीतिक रंग क्यों दिया जा रहा है? उन्होंने सफाई दी कि क्या अतिथि का पैर धोना गलत है? अगर ऐसा हो, तो अपने पुरखों से पूछिए. क्या कृष्ण ने सुदामा के पैर नहीं धोए थे.'' 

First published: 17 September 2018, 9:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी