Home » इंडिया » Blind Muslim Girl did not Stop Learning The Bhagwad Gita
 

नेत्रहीन रिदा जेहरा को याद है पूरी गीता

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 February 2016, 18:27 IST

मेरठ की सात साल की दृष्टिहीन रिदा जेहरा को गीता पूरी तरह से कंठस्‍थ है. रिदा जेहरा पिछले तीन सालों से मेरठ के आवासीय दृष्टिहीन स्कूल में पढ़ रही है और वहीं पर उसने गीता को केवल सुनकर याद कर लिया है. जेहरा ने इसके लिए ब्रेल लिपि का भी सहारा नहीं लिया.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक 'जेहरा को उसके स्कूली शिक्षक ने गीता के श्‍लोकों को याद करने में मदद की. मेरठ के ब्रिज मोहन स्कूल में तीसरी क्लास में पढ़ने वाली जेहरा इस मामले में बताती है कि 'मेरे लिए यह आवश्यक नहीं है कि मैं किसकी इबादत कर रही हूं या पूजा कर रही हूं क्योंकि अपनी आंखों से तो मैं उन्हें कभी देख नहीं पाएगी. मुझे इबादत करना पसंद है, इसे चाहे मैं गीता पढ़ कर करूं या फिर कुरान.'

रिदा जेहरा के गीता पढ़ने के बारे में स्कूल के प्रिंसिपल प्रवीण शर्मा बताते हैं कि 'साल 2015 में मुझे पता चला कि मेरठ में गीता पढ़ने की प्रतियोगिता होने वाली है और तभी मैंने सोचा कि उसमें मुझे हिस्सा लेना चाहिए.'

इसके बाद मैंने गीता पाठ करना सीखा और फिर स्कूल के बच्चों को भी इसका पाठ करना सिखाया. हमारे स्कूल में गीता याद करने वालों बच्चों में जेहरा सबसे आगे थी.

जेहरा पढ़-लिखकर बड़े होने के बाद दृष्टिहीन बच्चों को पढ़ाना चाहती है, ताकि उसकी तरह और भी बच्चे शिक्षा के जरिए इस खूबसूरत जिंदगी को देख पाएं.

दिल्ली में बिरयानी बेचकर अपने परिवार का भरण-पोषण करने वाले जेहरा के पिता रईस हैदर का कहना है कि 'मेरे लिए यह बात महत्वपूर्ण नहीं है कि जेहरा कुरान पढ़ती है या फिर गीता.

मुझे तो बस इस बात से खुशी है कि वो दोनों मजहबों को जान-समझ रही है'.

First published: 16 February 2016, 18:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी