Home » इंडिया » boeing 737 max 8 planes ban india dgca air space aviation authorities
 

इथोपिया हादसे के बाद भारत ने बोइंग 737 मैक्स-8 विमान को किया बैन, कई देशों ने भी लिया ये फैसला

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 March 2019, 8:26 IST

बोइंग 737 मैक्स-8 के दो विमान पिछले छह महीने से हादसों के शिकार हुए हैं. इस हादसे से पूरी दुनिया खौफ में है. इथोपिया में बोइंग 737 मैक्स विमान हादसे के भारत ने मंगलवार देर रात बोइंग 737 मैक्स-8 के विमानों को तत्काल प्रभाव से उड़ानों पर रोक लगा दी है. इस हादसे के बाद दुनिया के कई देशों ने बोइंग 737 मैक्स-8 के विमानों पर बैन लगा दिया है. 

मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन ने ट्वीट कर कहा, "जब तक इस विमान की सुरक्षा संबंधी जांच पूरी नहीं हो जाती तब तक इसकी उड़ान पर रोक कायम रहेगी. यात्रियों की सुरक्षा सर्वोपरि है."

इस मामले में DGCA ने कहा है कि वे संबंधित एयरलाइंस और एजेंसियों से लगातार बात कर रहे हैं. उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने सभी एयरलाइंसों की आपात बैठक बुलाई है. इसमें यात्रियों को परेशानी से बचाने के लिए चर्चा होगी.

बता दें कि भारत के इस फैसले से पहले ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, आस्ट्रेलिया, सिंगापुर, मलेशिया, आयरलैंड, आइसलैंड, ओमान, चीन, इंडोनेशिया, दक्षिण कोरिया और अर्जेंटीना जैसे देशों में इन विमानों पर रोक लगा दी गई है. इन विमानों से हो रहे हादसे से लोगों में इतना डर बैठ गया है कि UK ने तो अपने एयरस्पेस में ही इन विमानों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है.

DGCA ने पहले जारी की थी गाइडलाइन

भारत में भी इस विमान को लेकर सावधानियां बरती जा रही हैं. DGCA ने बोइंग 737 मैक्स-8 विमान को लेकर नई गाइड लाइन जारी की थी. इसमें साफ कह दिया था कि अब बोइंग 737 मैक्स-8 विमान उड़ाने वाले पायलट को कम से कम 1000 घंटे का अनुभव होना जरूरी है.

देश में इस कंपनी का विमान सिर्फ स्पाइस जेट और जेट एयरवेज ही इस्तेमाल करती हैं. स्पाइस जेट के बेड़े में बोइंग 737 मैक्स-8 के कुल आठ विमान है. अब इन विमानों के उड़ानों पर रोक लगा दी गई है. 

Pak और चीन अपनी युद्धक क्षमता को करना चाहता है मजबूत, JF-17 को कर रहा अपग्रेड

First published: 13 March 2019, 8:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी