Home » इंडिया » Bombay High Court to pronounce its verdict on entry of women in inner sanctum of the Haji Ali Dargah, todaay
 

हाजी अली दरगाह में महिलाओं के प्रवेश पर हाईकोर्ट का फैसला आज

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 June 2016, 10:02 IST
(हाजी अली दरगाह)

मुंबई की मशहूर हाजी अली दरगाह में महिलाओं के प्रवेश पर आज बॉम्बे हाई कोर्ट आज फैसला सुना सकता है. दरगाह के भीतरी हिस्से में महिलाओं का प्रवेश वर्जित है.

भूमाता रणरागिनी ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति देसाई दरगाह में महिलाओं के प्रवेश को लेकर अभियान चला चुकी हैं. उन्होंने दरगाह में प्रवेश करने की नाकाम कोशिश भी की थी. 

2011 से महिलाओं का प्रवेश बंद

मुंबई की हाजी अली दरगाह में 2011 से महिलाओं का प्रवेश बंद है. बाबा हाजी अली शाह बुखारी की दरगाह का निर्माण 1631 में हुआ था. यहां भारत के अलावा दुनिया भर से लोग आते हैं.

भूमाता ब्रिगेड की तृप्ति देसाई का कहना है कि 2011 के पहले तक हाजी अली दरगाह में महिलाओं को मजार तक प्रवेश की इजाजत थी.

पढ़ें: हाजी अली दरगाह में तृप्ति देसाई को नहीं मिला प्रवेश

लेकिन उसके बाद दरगाह के ट्रस्ट ने महिलाओं के अंदर जाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी. तृप्ति का कहना है कि इस परंपरा को खत्म करना चाहिए और ऐसी जगहों पर महिलाओं को बराबरी का हक मिलना चाहिए.

हाजी अली दरगाह में प्रवेश के लिए भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन नाम के संगठन ने बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की हुई है.

First published: 28 June 2016, 10:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी