Home » इंडिया » brahmos supersonic cruise missile successfully tested for first time from a sukhoi-30MKI fighter jet in world
 

भारत ने सुखोई से ब्रह्मोस मिसाइल छोड़कर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 November 2017, 16:28 IST

भारत ने बुधवार को दुनिया की सबसे तेज़ सुपरसोनिक क्रूज़ मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है. दुनिया में पहली बार किसी देश ने सुखोई-30-एमकेआई लड़ाकू विमान से ब्रह्मोस का सफल परीक्षण किया है. इस सफल परीक्षण के साथ भारत दुनिया का एसा पहला देश भी बन गया है, जिसके पास ज़मीन, समुद्र तथा हवा से चलाई जा सकने वाली सुपरसोनिक क्रूज़ मिसाइल है.

सफल परीक्षण की पुष्टि करते हुए रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को एक बयान में बताया गया कि मिसाइल को सुखोई-30-एमकेआई या एसयू-30 विमान के फ्यूज़लेज से गिराया गया. दो चरणों में काम करने वाली मिसाइल का इंजन चालू हुआ और वह बंगाल की खाड़ी में स्थित अपने टारगेट की तरफ बढ़ गई. 

इस विश्व रिकॉर्ड का ज़िक्र रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने डीआरडीओ को बधाई देते ट्वीट में भी किया है.

गौरतलब है कि इस टेस्ट के लिए हल्की ब्रह्मोस मिसाइल का प्रयोग किया गया, जिसका वजन 2.4 टन था, जबकि वास्तव में   इस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का वजन 2.9 टन होता है. मंत्रालय का कहना है कि इस परीक्षण से भारतीय वायुसेना की हवाई युद्ध की ऑपरेशनल क्षमता खासी बढ़ जाएगी.

हम आपको बता दें कि ब्रह्मोस मिसाइल नाम भारत और रूस की नदियों को मिलाकर रखा गया है. भारत की ब्रह्मपुत्र नदी और रूस की मस्कवा नदी पर इसका नाम रखा गया है. सुखोई और ब्रह्मोस की जोड़ी को 'डेडली कॉम्बिनेशन' के तौर पर देखा जा रहा है. बता दें, ब्रह्मोस मिसाइल आवाज की गति से करीब तीन गुना अधिक गति से हमला करने में सक्षम है.

First published: 22 November 2017, 16:28 IST
 
अगली कहानी