Home » इंडिया » british prime minister theresa may expressed regret over jallianwala bagh masscre general dyer
 

जालियांवाला बाग हत्याकांड के 100 साल बाद ब्रिटेन को हुआ पछतावा, बताया शर्मनाक

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 April 2019, 10:22 IST

जलियांवाला हत्याकांड की आज 100वीं बरसी है. इतिहास के पन्नों में ये एक भयावह घटना के रूप में दर्ज है, जिसमें जनरल डायर ने हजारों निहत्थे लोगों की जान ले लीं. आज ही के दिन 1919 में ये घटना हुआ. ये एक ऐसी घटना है, जिसे जानकर आज भी लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं. इतिहास के पन्नों में दर्ज ये खौफनाक घटना सिर्फ भारतीयों के लिए भयावह नहीं, बल्कि बिट्रेन के लिए भी शर्मनाक घटना भी थी

भले ही इस घटना के सौ साल हो गए हैं, लेकिन आज भी ये हत्याकंड हमारे ईऱ्द-गिर्द घूम रहा हैं. इस घटना के सौ सालों बाद बिट्रेन ने अपने एक बयान में कहा है कि ये घटना ब्रिटेने के लिए शर्मनाक है. 

जालियांवाला बाग कांड को लेकर 10 अप्रैल को बिट्रेन की प्रधानमंत्री थेरेसा ने पश्चाताप के आंसू बहाए. बिट्रेन की प्रधानमंत्री थेरेसा ने इस घटना को शर्मनाक करने वाला दाग बताया. मालूम हो कि इससे पहले बिट्रेन की महारानी एलिजाबेथ-2 ने 14 अक्टूबर 1997 में जलियांवाला बाग दौरे के पहले कहा था "भारत के साथ इतिहास का दुखद उदाहरण है."

जालियंवाला बाग को लेकर ब्रिटेन की सांसद हाउस ऑफ कॉमंस में थेरेसा मे ने कहा, "1919 का जालियांवाला बाग कांड ब्रिटिश इंडियन इतिहास पर शर्मनाक दाग है, जैसा कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने 14 अक्टूबर 1997 में जलियांवाला बाग दौरे के पहले कहा था यह हमारे भारत के साथ इतिहास का दुखद उदाहरण है."

जलियांवाला बाग हत्याकांड के 100 साल, जानिए ब्रिटिश हुकूमत ने क्यों बहाया था हजारों भारतीयों का खून

दूध के लिए तरस रही पाकिस्तान की जनता! टमाटर, आलू के बाद अब बढ़े इसके भी दाम

First published: 13 April 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी