Home » इंडिया » BSF never gave orders for evacuation of villages near International Border says DG BSF
 

बीएसएफ के डीजी का बयान- फिदायीन हमले नहीं रोक सकते लेकिन कामयाब नहीं होने देंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 October 2016, 12:08 IST
(एएनआई)

भारत और पाकिस्तान के बीच सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से तनाव है. जहां एक ओर पाकिस्तान ने एलओसी (नियंत्रण रेखा) पर सैनिकों का जमावड़ा बढ़ाया है, वहीं भारत की तरफ से भी अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है.

इस बीच भारत और पाकिस्तान के बीच अंतरराष्ट्रीय सीमा की निगरानी सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के पास है. बीएसएफ के महानिदेशक केके शर्मा ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, "हां इंटरनेशनल बॉर्डर पर तनाव है, लेकिन फायरिंग की कोई घटना सामने नहीं आई है." 

गांव खाली कराने का नहीं दिया आदेश

इसके अलावा पाक सीमा से सटे गांवों को खाली कराने के मुद्दे पर बीएसएफ के डीजी ने कहा, "अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास बीएसएफ ने कभी गांवों को खाली करने का आदेश नहीं दिया है." बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) और बीएसएफ की 43वीं डीजी स्तरीय बैठक के बाद बीएसएफ के डीजी ने पत्रकारों से बातचीत की. 

इस दौरान बीजीबी के डीजी मेजर जनरल अजीज अहमद ने कहा, "भारत-बांग्लादेश सीमा पर मवेशियों की तस्करी के अलावा हथियार, दवा और मानव तस्करी पर लगाम लगाने के लिए हम संयुक्त रूप से कोशिश कर रहे हैं."

वाघा बॉर्डर पर पथराव की बात मानी

बीएसएफ के डीजी केके शर्मा ने इस दौरान अमृतसर के पास वाघा वॉर्डर पर पाकिस्तान की ओर से पथराव की बात मानी. केके शर्मा ने कहा, "हां वाघा बॉर्डर पर पत्थरबाजी का एक मामला सामने आया था. हमने अपने पाकिस्तानी समकक्षों के साथ फ्लैग मीटिंग के दौरान यह मुद्दा उठाया था."

इसके अलावा बॉर्डर पर फिदायीन हमले की संभावनाओं के सवाल पर बीएसएफ के डीजी ने कहा, "अगर फिदायनी हमला करना चाहेंगे तो उस हमले को हम नहीं रोक सकते, लेकिन हम उन्हें कामयाब नहीं होने देंगे."

गौरतलब है कि पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से भारत ने एहतियातन कई कदम उठाए हैं. तीनों सेनाओं को हाई अलर्ट पर करने के साथ ही बीएसएफ के जवानों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं. पाकिस्तान की तरफ से आतंकी हमले की संभावना को देखते हुए बीएसएफ के जवान मुस्तैद हैं.

First published: 4 October 2016, 12:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी