Home » इंडिया » BSF jawan narendra singh throat slit on jammu border by Pakistan Border action team
 

इमरान सरकार में भी नहीं सुधरा पाकिस्तान, सीमा पर लगातार हो रही सिर कलम की वारदातें

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 September 2018, 15:19 IST
(file photo )

पाकिस्तान सीमा पर अपनी घिनौनी हरकत से बाज नहीं आ रहा है. बुधवार को सीमा पर बीएसएफ जवान की बर्बर हत्या के पीछे पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) का हाथ बताया जा रहा है. बैट ने बीते दिन सीमा पर बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह की हत्या कर दी थी. उसके शव को क्षत विक्षत कर दिया था. इस हत्या के बाद सीमा पर दोनों के बीच तनाव एक फिर से बढ़ गया है. सीमा पर अलर्ट जारी कर दिया गया है.

मीडिया खबरों के मुताबिक, रामगढ़ इलाके की एसपी-1 सीमा चौकी के पास गोलीबारी में जवान नरेंद्र सिंह जख्मी हो गया था. इसके बाद बैट ने उसका गला रेतकर हत्या कर दी. उसके अंगों को भी क्षत-विक्षत कर दिया गया था. पाकिस्तानी की इस घिनौनी हरकत के बाद भारत ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अलर्ट जारी कर दिया है. दोनों देशों में तनाव फिर से बढ़ गया है.

गौरतलब है कि ये पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान की तरफ से इस तरह की किसी जवान के साथ बर्बरता की गई है. इससे पहले भी पाकिस्तान की बैट टीम की ओर से इस तरह की हैवानियत को अंजम दिया जाता रहा है. इससे पहले 13वीं राजपुताना राइफल्स के जवान सुधाकर सिंह और हेमराज की हत्या कर दी गई थी. बैट टीम के जवान सीमा पार कर पुंछ जिले में घुस आए थे. उन्होंने गश्त कर रहे सुधाकर सिंह और हेमराज की हत्या कर दी. दोनों जवानों के अंगों को क्षत-विक्षत कर दिया था.

इसके अलावा 22 नवंबर, 2016 को माछिल में लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर पाकिस्तान के संदिग्ध आतंकियों के हमले में आर्मी के तीन जवान शहीद हो गए थे. इसमें से एक जवान का शव क्षत-विक्षत मिला था. इसके अलावा पिछले साल अक्टूबर में भी एक जवान का शव क्षत विक्षत हालत में मिला था. लगातार पाकिस्तान की तरफ से इस तरह की जघन्य घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-  बीते 13 सालों में हर तीसरे दिन एक जवान हुआ देश के लिए शहीद

First published: 20 September 2018, 15:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी